करण मेहरा ने खोली निशा रावल की पोल, बोले- वो निशा थी जिसका 2015 में अफेयर चल रहा था

युग जागरण न्यूज़ नेटवर्क

ये रिश्ता क्या कहलाता है फेम एक्टर करण मेहरा अपनी ऊपर लगे डोमेस्टिक वायलेंस केस को लेकर सुर्खियों में बने हुए है। जबसे उन पर पत्नी निशा रावल ने इलजाम लगाए है और एफआइआर दर्ज करवाई है तभी से उनकी शांती भंग हो चुकी है। वही अब करण मेहरा ने सभी आरोप का खंडन किया है। इसके साथ ही निशा रावल पर एक बड़ा आरोप भी लगाया है। आपको याद होगा कि करण मेहरा पर निशा ने एक्स्ट्रा मैरिटल अफेयर का भी आरोप लगाया था। हालांकि, अब अपने नए इंटरव्यू में, करण ने कहा कि उनकी बजाय, वो निशा थी, जिसका 2015 में अफेयर चल रहा था। इसके साथ ही, करण ने निशा द्वारा मांगे गए गुजारा भत्ता के बारे में भी बात की। एक इंटरव्यू में करण मेहरा ने कहा कि, उनका कभी किसी के साथ अफेयर नहीं रहा उन्होंने कहा कि, उनकी पत्नी का 2015 में एक्स्ट्रा मैरिटल अफेयर था जो साल 2016 तक चला। करण ने यह भी कहा कि श्निशा रावल के भाई, रोहित सेठिया ने भी उनसे हाथ जोड़कर अनुरोध किया कि वह उनकी बहन को उसकी इस बड़ी गलती के लिए माफ कर दें। उन्होंने आगे कहा, जिसके बाद मैंने उसे माफ कर दिया। मैंने सब कुछ किया। ये रोहित सेठिया मेरे सामने खड़े होकर मुझसे माफी मांग रहा था कि मेरी बहन की जिंदगी खराब हो जाएगी, उससे गलती हो गई है, मेरी और मेरी मां की क्या इज्जत रह जाएगी। उसी इंटरव्यू में, करण मेहरा ने गुजारा भत्ता को लेकर कहा, निशा रावल ने भारी भरकम गुजारा भत्ता मांगा था, जिसमें 1 क्या लगभग 50 बच्चों की परवरिश हो सकती है। उन्होंने कहा, कविश के लिए इतने पैसे चाहिए, जितने पैसों में 50 बच्चे पल जाएंगे। इतने ज्यादा पैसे चाहिए। मुझे देदो मैं अपने आप पाल लुंगा। मुझे जरुरत नहीं है इतने पैसे देने की और मैं तुम्हें पैसे क्यों दूं? किस लिए? उसे पालने के लिए? ऐसे इंसान के साथ तो बच्चा बिल्कुल भी सुरक्षित नहीं है। 

Popular posts
मुझ पर दोस्तों का प्यार, यूँ ही उधार रहने दो |
Image
चिट्टियां कैसे लिखी जाती थी
Image
राज्य विधिक सेवा प्राधिकरण के तत्वाधान में व प्रभारी जिला जज/ अध्यक्ष विधिक सेवा प्राधिकरण के मार्गदर्शन में आजादी अमृत महोत्सव हुआ कार्यक्रम
Image
70 साल की उम्र में UP विधानसभा के पूर्व अध्यक्ष सुखदेव राजभर ने ली अंतिम सांस, मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ, अखिलेश यादव ने जताया शोक
Image
असंगठित क्षेत्र के श्रमिकों को सामाजिक सुरक्षा, रोज़गार और कल्याणकारी योज़नाओं का लाभ उठाने ई-श्रमिक पोर्टल पर पंजीकरण मील का पत्थर साबित होगा
Image