मेजर शैतान सिंह

युग जागरण न्यूज़ नेटवर्क

"लाल साहब , आप भी क्यों नही हमारे साथ चलते हैं, आप दो लोग ऐसे पहाड़ में टेंट में अकेले कैसे बैठेंगे, माइनस तीस तक तापमान जा सकता है।" ये मेजर शैतान सिंह ने कहा "सर, जैसा आप कहें।"

यही सपना देखते हुए लाल साहब सुबह उठे और इतने उदास हुए की फूट फूट कर रो पड़े।

ये वाकया 1962 के भारत चीन युद्ध के समय का था, लाल साहब और मेजर शैतान सिंह एक दूसरे को बहुत पसंद करते थे।

लाल साहब आर्मी के मेडिकल कॉर्प में थे, मेडिकल कोर हमेशा युद्ध क्षेत्र से थोड़ा पीछे रहती है, उनकी पोस्टिंग चिसुल में थी। मेजर शैतान सिंह अपने यूनिट के 120 सैनिकों के साथ युद्ध मे आगे चोटी में जाने के पहले उनके पास रुके थे तभी उन्होंने अपने साथ चलने कहा था। तभी एकाएक खबर आयी, ऊपर चोटी पर एक जवान घायल हुआ है, उसे मेडिकल ऐड के लिए नीचे ला रहे हैं। इस कारण से लाल साहब को वहीं रुकना पड़ा।

उस युद्ध में  मेजर शैतान सिंह ने अपने साहस और पराक्रम के चलते  1300 चीनी सैनिकों को अकेले ही मौत के घाट उतार दिया था |

मेजर सैतान सिंह ने 1962 के युद्ध में 120 भारतीय सिपाहियों की टुकड़ी के साथ अपने से कई गुना ज्यादा सिपाहियों का सामना किया, जबकि उस समय सेना के पास न ही ज्यादा हथियार थे न ही ऑटोमैटिक बंदूक थी, हड्डी गलाती ठंड में कपड़े भी सही नही थे।

आगे जाने पर मेजर शैतान सिंह और 120 सैनिक वीरगति को प्राप्त हुए। 

और लालसाहब आज भी उस मंजर को भूल नही पाये।

मेजर शैतान सिंह को मरणोपरांत भारत सरकार ने परमवीर चक्र से नवाजा।  

स्वरचित

भगवती सक्सेना गौड़

बैंगलोर