सरकार की उपलब्धियों के सम्बन्ध में वन राज्य मंत्री ने की प्रेस-वार्ता

 युग जागरण न्यूज़ नेटवर्क 

बहराइच । मुख्य अतिथि प्रदेश के मा. राज्य मंत्री वन, पर्यावरण, जन्तु उद्यान एवं जलवायु परिवर्तन विभाग श्री के.पी. मलिक ने एम.एल.सी. डॉ. प्रज्ञा त्रिपाठी, विधायक महसी सुरेश्वर सिंह, पयागपुर के सुभाष त्रिपाठी व नानपारा के राम निवास वर्मा, जिलाधिकारी डॉ. दिनेश चन्द्र व अन्य अधिकारियों के साथ शनिवार को देरशाम प्रदेश सरकार के 100 दिन पूरे होने पर सरकार की उपलब्धियों के सम्बन्ध में कलेक्ट्रेट सभागार में मीडिया प्रतिनिधियों के साथ वार्ता करते हुए योगी सरकार 2.0 के प्रथम 100 दिन का रिपोर्ट कार्ड प्रस्तुत किया।

मा. मंत्री श्री मलिक ने बताया कि योगी सरकार 2.0 के प्रथम 100 दिन अपराध एवं अपराधियों के विरूद्ध ज़ीरो टालरेंस को समर्पित रहे। प्रदेश स्तर पर प्रमुख 50 एवं मुख्यालय स्पर पर 12 अन्य माफियाओं को चिन्हित कर 62 माफियाओं एवं इनके गैंग के 894 सदस्यों के विरूद्ध कार्रवाई करते हुए अपराधी गैंगों के 431 सदस्यों की गिरफ्तारी, 178 के विरूद्ध गुण्डा एक्ट, 884 के विरूद्ध गैंगस्टर एक्ट तथा 13 के विरूद्ध एन.एस.ए. की कार्रवाई की गई है। माफिया एवं अपराधियों द्वारा अवैध रूप से अर्जित लगभग रू. 844 करोड़ की सम्पत्तियॉ ज़ब्त। अब तक कुल 2,925 करोड़ की अवैध सम्पत्तियॉ ज़ब्त की गई हैं।

प्रदेश में किसानों की खुशहाली के लिए बंजर, बीहड़ भूमि सुधार हेतु रू. 602 करोड़ की पं. दीनदयाल उपाध्याय किसान समृद्धि योजना प्रारम्भ की गई। पी.एम. किसान सम्मान निधि से 2.59 करोड़ किसानों को रू. 45 हज़ार 397 करोड़ हस्तान्तरित करने के साथ 19 मण्डियों के आधुनिकीकरण किया गया तथा 54 कृषि कल्याण केन्द्रों की स्थापना की गई। सिंचन क्षमता में अभूतपूर्व वुद्धि के लिए 239 राजकीय नलकूपों का आधुनिकीकरण, मुख्यमंत्री लघु सिंचाई योजना के अन्तर्गत 46,172 उथले नलकूपों का निर्माण पूर्ण की गई तथा बाढ़ से बचाव हेतु रू. 591 करोड़ की 62 परियोजनाएं पूर्ण की गईं।  

वन राज्य मंत्री ने बताया कि सहकारिता के क्षेत्र में 13 सहकारी बैंकों की नई शाखाएं खोली गई, 08 लाख कृषकों को रू. 4635 करोड़ का फसली ऋण वितरित करने के साथ 02 विशाल तथा 17 वृहद खाद्यान्न गोदामों का निर्माण किया गया। जल जीवन मिशन के तहत नमामि गंगे अन्तग््रत 25 परियोजनाएं पूर्ण की गई, 574 ग्रामों में पाईप पेयजल परियोजनाएं पूर्ण, 3.76 लाख घरों में कनेक्शन प्रदान किये गये। आमजनमानस में भूख का भय दूर करने के लिए राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा अधिनियम के तहत प्रदेश के 15 करोड़ गरीबों को रू. 3200 करोड़ के व्यय भार पर खाद्यान्न, दाल/साबुत चना, आयोडाइज़्ड नमक, रिफाइन्ड ऑयल तथा अन्त्योदय कार्डधारकों को चीनी का निःशुल्क वितरण किया गया। उचित दर दुकानों को कॉमन सर्विस सेन्टर के रूप में विकसित करने के साथ डोर स्टेप डिलीवरी की व्यवस्था को लागू किया गया है।

श्री मलिक ने बताया कि जगमग प्रदेश के उद्देश्य से पथ प्रकाश व्यवस्था के लिए 5000 सोलर स्ट्रीट लाइट संयंत्रों की स्थापना तथा 660 मेगावाट के 02 तापीय परियोजना की स्थापना के साथ जवाहरपुर तापीय परियोजना की प्रथम इकाई के बॉयलर का संचालन प्रारम्भ किया गया है। प्रदेश में उद्योगों एव निवेशों को बढ़ावा देने के उद्देश्य से तृतीय ग्राउण्ड ब्रेकिंग सेरेमनी में मा. प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी जी द्वारा रू. 80 हजार 224 करोड़ की 1406 परियोजनाओं का शिलान्यास किया गया जिससे 06 लाख व्यक्तियों को रोज़गार मिलेगा। 

बुन्देलखण्ड एक्सप्रेस-वे का कार्य पूर्ण, गंगा एक्सप्रेस-वे का कार्य प्रगति पर तथा बलिया लिंक एक्सप्रेस-वे कार्यान्वयन की प्रक्रिया प्रारम्भ की गई है। आवागमन की सुविधाओं में विस्तार के उद्देश्य से 64 बस स्टेशनों यौन्दर्यीकरण, 63 नई बसें बेड़े में शामिल किया गया है।

उन्होंने बताया कि स्वदेशी एवं खादी को बढ़ावा देने के साथ उद्यमियों के प्रोत्साहन के लिए 1.90 लाख हस्तशिल्पियों, कारीगरों एवं छोटे उद्यमियों को रू. 16 हज़ार करोड़ का ऋण वितरण, सबको घर के तहत ग्रामीण व शहरी क्षेत्रों में 44 लाख पीएम आवास तथा मुख्यमंत्री आवास योजना के तहत 8200 आवासों का निर्माण, जनस्वास्थ्य के लिए 16 करोड़ से अधिक लोगों को कोरोना टीेके, सर्वजन हि सर्वाेपरि के तहत सभी जनपदों में मुख्यमंत्री अभ्युदय योजना का संचालन, 1.88 करोड़ छात्र-छात्राओं को नामांकन, राजकीय सेवा के अवसर के तहत 3532 अभ्यर्थियों का चयन, पीएम ग्राम सडत्रक योजना के तहत 5000 कि.मी. सड़क मार्गों का निर्माण, नगरीय सुविधाओं के तहत 1.01 लाख से अधिक आवास पूर्ण, 84148 स्ट्रीट वेण्डर्स को ऋण, 3225 स्वयं सहायता समूहों का गठन किया गया है। सुन्दर वन सुशोभित उद्यान के तहत 15 अगस्त तक 35 करोड़ पौधरोपण का लक्ष्य, पशुधन संरक्षण के तहत 100 दिनों 50003 गौवंश संरक्षित किये गये, 20 नये गौ संरक्षण केन्द्रों का निर्माण तथा 569 अस्थाई गौ सेवा बाड़ा स्थापित किया गया।