सावन का चौथा सोमवार इन राशियों के लिए लाभकारी

युग जागरण न्यूज़ नेटवर्क

हिंदू धर्म की मान्यताओं के अनुसार सावन का महीना बेहद खास होता है। यह महीना भगवान शिव को समर्पित है। कहा जाता है कि सावन के महीने में भगवान शिव की पूजा करने से कष्टों से मुक्ति मिलती है और मनोकामनाएं पूरी होती हैं। सावन का आखिरी और चौथा सोमवार 8 अगस्त को है। इस दिन पुत्रदा एकादशी का संयोग बन रहा है। सावन मास के शुक्ल पक्ष की एकादशी को पुत्रदा एकादशी का व्रत रखा जाता है। ऐसे में एकादशी और सोमवार के व्रत के कारण इस दिन का महत्व बढ़ता ही जा रहा है। 

सावन के अंतिम सोमवार को रवि योग भी बन रहा है। ज्योतिष शास्त्र में रवि योग को शुभ और शुभ कार्यों के लिए बहुत अच्छा माना गया है। 08 अगस्त को सुबह 05:46 से दोपहर 02:37 तक रवि योग रहेगा। ज्योतिषियों के अनुसार सावन के अंतिम सोमवार को भगवान शिव की कुछ राशियों की विशेष कृपा रहेगी। आइए जानते हैं कौन सी हैं वो राशियां-

वृष- वृष राशि वालों के लिए सावन का अंतिम सोमवार बेहद खास रहने वाला है। वृषभ राशि के जातकों पर भगवान शंकर की कृपा बनी रहेगी। इस राशि के जातकों को अंतिम सोमवार में अपने सभी कार्यों में सफलता मिलेगी। इतना ही नहीं स्वास्थ्य संबंधी परेशानियां खत्म होंगी। लंबे समय से रुके हुए काम पूरे होंगे। सावन के अंतिम सोमवार को भगवान शंकर की पूजा करने से लाभ होगा।

मिथुन- सावन के अंतिम सोमवार में मिथुन राशि वालों को अपने काम में सफलता मिलेगी। शिव की कृपा से आपके सभी बिगड़े हुए काम बन जाएंगे। परिवार में खुशियां आएंगी। पार्टनर का पूरा सहयोग मिलेगा। चिंता दूर होगी। आमदनी में वृद्धि होने की संभावना है। व्यापारियों को लाभ होगा।

तुला- तुला राशि के जातकों के लिए भी सावन का अंतिम सोमवार शुभ फल देगा। सावन के अंतिम सोमवार को भी भगवान भोलेनाथ की आप पर कृपा बनी रहेगी। नौकरी और करियर में सफलता मिलने के योग हैं। यदि आप पहले से नौकरी में हैं तो तरक्की के योग बनेंगे। समाज में मान सम्मान बढ़ेगा। आर्थिक स्थिति बेहतर होगी। आत्मविश्वास बढ़ेगा। सावन के अंतिम सोमवार के दिन भगवान शिव को जल अर्पित करना शुभ साबित होगा।

कुंभ- कुंभ राशि के जातकों के लिए भी सावन का अंतिम सोमवार बेहद लाभकारी रहने वाला है। कुंभ राशि के जातक जिस भी कार्य में हाथ डालेंगे उसी में सफलता प्राप्त होगी। आर्थिक मामलों में आपको मजबूती प्रदान करेगी। कुंभ राशि के जातकों को जो रुपए-पैसे की दिक्कत हो रही थी वो जल्द ही समाप्त होगी।