नाबालिग से छेड़छाड़ के मामले में 4 वर्ष की सजा, 3 हजार का अर्थदंड

 युग जागरण न्यूज़ नेटवर्क 

मथुरा। अपर सत्र न्यायाधीश व विशेष न्यायाधीश पोक्सो कोर्ट विपिन कुमार की अदालत में शनिवार को बालिका से छेड़छाड़ व मारपीट के मामले में अभियुक्त भृगराज को दोषी सिद्ध होने पर 04 वर्ष की कठोर कारावास तथा 03 हजार रुपये का अर्थदंड के आदेश दिए हैं।इस केस की सरकार की ओर से पैरवी कर रही स्पेशल डीजीसी पोक्सो कोर्ट श्रीमती अलका उपमन्यु एडवोकेट ने बताया कि थाना मांट में पीड़िता के पिता ने इस प्रकरण की रिपोर्ट 11 सितम्बर 2019 को दर्ज कराई थी। 

जिसमें कहा गया था कि 11 सितम्बर 2021 कि सुबह करीब 8:00 बजे पीड़िता व उसकी माँ घर में अकेली थी तभी साधु भेषधारी भृगराज गोंडा निवासी पुरखंडी, थाना हिंजली, जिला गंजम, उडीसा मेरे घर में घुस आया और मेरी नाबालिग बेटी से अश्लील हरकत करने लगा और पीड़िता का हाथ पकड़कर कमरे की और ओर खींचने लगा और बोला कि तू मेरी राधा है मैं तेरा कृष्ण हूँ, तुझसे शादी करनी है। शोर शराबा सुनकर पड़ोसी एकत्रित हो गए और पीड़िता का पिता भी आ गया। 

पीड़िता के पिता ने मांट थाना में रिपोर्ट दर्ज कर कार्यवाही की मांग की। इस पर पुलिस ने रिपोर्ट दर्ज कर अभियुक्त भृगराज को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया था। इस प्रकरण में लंबी सुनवाई के बाद शनिवार को विद्वान न्यायाधीश विपिन कुमार ने अभियुक्त भृगराज को दोषी मानते हुए धारा-354 में 04 वर्ष का कठोर कारावास तथा एक हजार रुपये अर्थदंड, धारा-452 में 04 हजार का कठोर कारावास तथा एक हजार रुपये का अर्थदंड, पोक्सो अधिनियम 2012 की धारा-8 में 04 वर्ष के कठोर कारावास तथा एक हजार के अर्थदंड से दंडित किया है। 

स्पेशल डीजीसी श्रीमती अलका उपमन्यु एडवोकेट ने बताया कि सभी धाराओं में अलग-अलग सजा सुनाई गई है और अर्थदंड भी अलग-अलग लगाए गए हैं अर्थदंड का भुगतान न करने पर उसकी एवज में दोषी को सभी धाराओं में अलग-अलग अतिरिक्त कारावास की भी सजा सुनाई गई है ये सभी सजाएं साथ-साथ चलेंगी अभियुक्त को हिरासत में लेकर जेल भेज दिया गया है।