IND vs ENG 1st t20 Analysis: भारत ने इंग्लैंड को 50 रन से हराकर टेस्ट में मिली हार का बदला ले लिया

 युग जागरण न्यूज़ नेटवर्क  

तीन मैचों की टी20 सीरीज के पहले मुकाबले में भारत ने इंग्लैंड को 50 रन से हराकर टेस्ट में मिली हार का बदला ले लिया है। इस मैच में भारत ने पहले बल्लेबाजी करते हुए 198 रन का बड़ा स्कोर खड़ा किया फिर इंग्लैंड को 148 रन पर रोका और मैच अपने नाम किया। इंग्लैंड दौरे पर भारत ने पहला मैच एजबेस्टन में खेला था। इस टेस्ट मैच में रोहित नहीं खेले थे और भारत को हार का सामना करना पड़ा था, लेकिन उनके वापस आते ही टीम इंडिया जीत की पटरी पर लौट चुकी है। भारत की जीत में आक्रामक बल्लेबाजी और हार्दिक के ऑलराउंड प्रदर्शन का योगदान सबसे ज्यादा रहा, लेकिन तेजी से रन बनाने के चक्कर में भारत ने कई विकेट गंवाए और अंतिम ओवरों में तेजी से रन बनाने के लिए ज्यादा विकेट नहीं बचे थे। टीम इंडिया को इस समस्या का तोड़ निकालना होगा। 

इंग्लैंड की वनडे और टी20 टीम की कायापलट करने वाले ईयोन मॉर्गन अब अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट से संन्यास ले चुके हैं और उनकी जगह जोस बटलर को कप्तान बनाया गया है। इंग्लैंड के नियमित कप्तान बनने के बाद जोस बटलर पहले ही मैच में फ्लॉप रहे हैं। वो खाता खोले बिना आउट हो गए और टीम को बड़ा हार मिली है। टी20 विश्व कप से पहले यह इंग्लैंड के लिए अच्छे संकेत नहीं हैं। 

मैच के टर्निंग प्वाइंट

इस मैच में भारतीय टीम टॉस जीतने के साथ ही आगे हो गई थी, क्योंकि इस मैदान पर इस साल अधिकतर मैच पहले बल्लेबाजी करने वाली टीम ने जीते थे। कप्तान रोहित ने भी ऐसा ही किया और टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी चुनी। उन्होंने ताबड़तोड़ अंदाज में शुरुआत की और उनके आउट होने के बावजूद भारतीय बल्लेबाज रुके नहीं। सभी ने शुरुआत से ही आक्रामक बल्लेबाजी की और भारत का स्कोर 198 रन तक पहुंचाया। 

हार्दिक पांड्या ने 33 गेंद में 51 रन की बेहतरीन पारी खेली। उन्होंने शुरुआत में ताबड़तोड़ अंदाज में रन बनाए फिर 12वें ओवर में सूर्यकुमार के आउट होने के बाद संभलकर बल्लेबाजी भी की। अंत में बड़ा शॉट खेलने के प्रयास में वो आउट हुए। 

दूसरी पारी में भुवनेश्वर कुमार ने पहला ही ओवर शानदार किया। उन्होंने सिर्फ एक रन दिया और इंग्लैंड के कप्तान जोस बटलर को आउट कर दिया। यहीं से भारत मैच में बहुत आगे हो गया था। 

इंग्लैंड की पारी के पांचवें ओवर में हार्दिक गेंदबाजी के लिए आए और दो विकेट निकाले। इसके बाद इंग्लैंड की बल्लेबाजी की कमर टूट गई थी। 37 गेंदों के अंदर इंग्लैंड के शुरुआती चार बल्लेबाज आउट हो गए थे। 

हैरी ब्रूक और मोईन अली ने मैच में इंग्लैंड की वापसी कराई थी, लेकिन चहल ने एक ही ओवर में दोनों को आउट कर भारत की जीत लगभग तय कर दी। 

भारतीय कप्तान रोहित शर्मा ने इस मैच में शानदार वापसी की। उन्होंने पहले आक्रामक बल्लेबाजी कर भारत को तेज शुरुआत दिलाई फिर कप्तानी में भी कमाल किया। टीम चयन से लेकर गेंदबाजों के चलाने तक, हर मामले में रोहित ने शानदार प्रदर्शन किया। वहीं, इंग्लैंड के कप्तान जोस बटलर पूरी तरह फ्लॉप रहे। इंग्लैंड की वनडे और टी20 टीम के नियमित कप्तान बनने के बाद बटलर पहली बार मैदान पर उतरे थे और वो खाता खोले बिना आउट हो गए। जब भारतीय बल्लेबाज तेजी से रन बना रहे थे तो उनके पास कोई जवाब नहीं था और वो भारत को छोटे स्कोर पर नहीं रोक पाए। 

भारत के लिए कैसा रहा मैच

सकारात्मक पहलू: कप्तान रोहित शर्मा से लेकर दीपक हुड्डा, सूर्यकुमार यादव और हार्दिक पांड्या ने कमाल की बल्लेबाजी की। सभी ने शुरुआत से ही बड़े शॉट्स खेले और भारत आसानी से 200 रन के करीब पहुंच गया। हार्दिक ने अर्धशतक लगाने के बाद चार विकेट भी झटके। यह भारत के लिए सबसे अच्छी खबर है। वहीं, भुवनेश्वर कुमार, युवा अर्शदीप सिंह और युजवेन्द्र चहल ने भी शानदार गेंदबाजी की। रोहित की कप्तानी भी शानदार रही। 

नकारात्मक पहलूः भारत के कई बल्लेबाजों ने अच्छी शुरुआत की, लेकिन बड़ी पारी नहीं खेल पाए। कप्तान रोहित, दीपक हुड्डा और सूर्यकुमार यादव अच्छी शुरुआत के बाद आउट हुए। दिनेश कार्तिक इस मैच में फिनिशर का किरदार सही तरीके से नहीं निभा सके और हार्दिक भी अंत तक नहीं खेल पाए। गेंदबाजी में अक्षर पटेल ने निराश किया। उन्होंने दो ओवर में 23 रन लुटाए। 

इंग्लैंड के लिए कैसा रहा मैच

सकारात्मक पहलूः क्रिस जॉर्डन ने इस मैच में शानदार गेंदबाजी की। उन्होंने अपने चार ओवर में सिर्फ 23 रन देकर दो विकेट लिए। टोपली ने भी 34 रन देकर एक विकेट लिया। एक समय पर लग रहा था कि भारत आसानी से 200 से ज्यादा रन बनाएगा, लेकिन इंग्लैंड के गेंदबाजों ने आखिरी ओवरों में शानदार गेंदबाजी की और टीम इंडिया को 200 तक नहीं पहुंचने दिया। बल्लेबाजी में हैरी ब्रूक, मोईन अली और क्रिस जॉर्डन ने अच्छा प्रदर्शन किया। अली ने पावरप्ले में इंग्लैड को अहम विकेट भी दिलाए थे। 

नकारात्मक पहलूः पावरप्ले में दो विकेट झटकने के बावजूद इंग्लैंड के गेंदबाज भारत के रन रेट पर रोक नहीं लगा सके और भारत आसानी से 200 रन के करीब पहुंच गया। इंग्लैंड के चौर गेंदबाजों ने 10 रन से ज्यादा के इकोनॉमी रेट से रन लुटाए। बल्लेबाजी में कप्तान बटलर और लियम लिविंगस्टोन अपना खाता भी नहीं खोल पाए। जेसन रॉय ने 16 गेंद में चार रन बनाए। अगले मैच में इंग्लैंड की टीम को कई क्षेत्रों में सुधार करना होगा।