इश्क

 युग जागरण न्यूज़ नेटवर्क


इश्क में उनके हम सारा जहां भूल जाते हैं।

साथ उनका पा हम खुद को भूल जाते हैं।।


निगाहों में उनके डूबे कुछ इस कदर।

खुद अपने ही  ठिकाना भूल जाती है।।


प्यार है उन्हें हमसे बेपनाह देखो

प्यार में उनके हम जमाना भूल जाते हैं।।


वह साथ होते हैं हमारे हर कदम देखो

साथ उनका पा हम हर गम भूल जाते हैं।।


पुकारते हैं मधु हरदम आवाज देकर।

हमारा नाम लेकर वह अपना नाम भूल जाते हैं।।


                         रचनाकार ✍️

                         मधु अरोरा