चित्रकूट में धीमी पड़ी मंदाकिनी की सफाई

 युग जागरण न्यूज़ नेटवर्क 

चित्रकूट : मर्यादा पुरुषोत्तम भगवान श्री राम की कर्म स्थली में आस्था की प्रतीक मंदाकिनी लगातार बढ़ रहे प्रदूषण के चलते गंदगी से पटी पड़ी है । चित्रकूट के रामघाट से लेकर पुल घाट कर्वी तक नदी में गंदगी है । धर्मनगरी के साधू - संतों , समाजसेवियों से लेकर प्रशासन कई बार नदी की सफाई को लेकर अभियान चला चुका है । फिर भी मंदाकिनी की गंदगी दूर नहीं हो सकी है । मंदाकिनी में गिरने वाले नालों का पानी न रोके जाने से नदी प्रदूषित हो रही है । एक माह पहले चित्रकूट जिला अधिकारी की अगुवाई में बड़े तामझाम के साथ सफाई अभियान की शुरुआत की गई थी । जिसमें कामदगिरि स्वच्छता समिति के अध्यक्ष राकेश केसरवानी के नेतृत्व में शुरू की गई थी । अब यह सफाई सिर्फ सोशल मीडिया और फोटो तक ही सीमित रह गई|

गंदे नाले गिर रहे नदी में भगवान राम की तपोस्थली धर्मनगरी चित्रकूट में मंदाकिनी नदी का एमपी के सती अनुसुइया आश्रम के आगे घनघोर जंगलों व पहाड़ियों से उद्गम माना जाता है । मंदाकिनी नदी में लाखों श्रद्धालु रामघाट में स्नान करते हैं । मौजूदा समय में गंदगी और प्रदूषण से मंदाकिनी का अस्तित्व खतरे में है । रामघाट से लेकर बूढ़े हनुमान मंदिर तक मंदाकिनी नदी चोई घास व काई से पटी हुई है । यही हाल पुल घाट कर्वी तक मंदाकिनी में देखने को मिल रहा है । खास बात यह है कि चित्रकूट में कई नालों का गंदा पानी सीधे मंदाकिनी में गिर रहा है । जिसकी वजह से मंदाकिनी में गंदगी बढ़ रही है ।