कुछ उपाय करो सरकार

 युग जागरण न्यूज़ नेटवर्क 


महंगाई की  गाड़ी भी बढ़ी तेजी से देश में चल रही,

करवाती है संघर्ष यहां जिन्दगी बड़ी मुश्किल से चल रही,


दवाईयों के दामों ने  आसमां  को  छु   लिया,

बीमार हो जाएं तो संभलना मुश्किल हो गया,


किताबों और फीस   ने कमर  यहां तोड़ दी,

अब तो पढ़ाने की भी उम्मीद हमने छोड़ दी,


आमदनी वहीं पर खड़ी ख़र्च बराबर बढ़ रहे,

पेट की रोटी पर भी टैक्स की अब मार पड़ी,


जीवन जीना अब हो गया दुसवार है,

हर तरफ महंगाई की पड़ रही मार है,


रसोई गैस के दामों ने दम यहां निकाला है,

जनता का तो अब निकल गया दिवाला है,


सरकारें वादा करती है महंगाई को घटाने के,

झूठे वादे  कर  लोगों  का दिल  बहलाने  के,


लालच   बड़े बड़े देकर  यहांँ  बहकाया  जाता है,

रेट दौगूने कर जनता को ठिकाने लगाया जाता है,


बड़ी मार पड़ी हर तरफ़ कुछ तो राहत दो सरकार,

त्राहि-त्राहि कर रही जनता कुछ तो उपाय करो सरकार,


रामेश्वर दास भांन

करनाल हरियाणा