कृषकों की आय दुगनी करने में वरदान है सघन बागवानी: डीएम

 युग जागरण न्यूज़ नेटवर्क  

बहराइच । राष्ट्रीय कृषि विकास योजना के प्रभारी आर.के. वर्मा ने बताया कि विदेशी/संकर प्रजाति के आम अमेरिकन टॉमी एटकिन्स, सन्सेशन एवं आम्रपाली, अम्बिका, पूसा श्रेष्ठ, पूसा लालिमा, पूसा अरूणिमा तथा अमरूद प्रजाति ताईवान पिंक, श्वेता आदि सघन बागवानी के लिए बहुत ही उपयुक्त प्रजातियॉं हैं।

परियोजना प्रभारी श्री वर्मा ने बताया कि विगत वर्ष उद्यान विभाग द्वारा राष्ट्रीय कृषि विकास योजनान्तर्गत जनपद के ब्लाक बलहा के ग्राम वैवाही, शिवपुर के रामपुर धोबियाहार, तेजवापुर के यादवपुर, चित्तौरा के सोहरवां में सघन बागवानी के 5 मॉडल विकसित किये गये। जिसमें सभी कृषकों के यहॉं न्यूनतम स्तर पर उत्पादन लिया जा रहा है और आगामी 3 वर्षों में भरपूर उत्पादन मिलने लगेगा। सघन बागवानी में 1 हे. में आम, अमरूद के 2500 पौधे रोपित किये जाते हैं। जिसमें ड्रिप सिंचाई लगाना अतिआवश्यक होता है।

श्री वर्मा ने बताया कि आम महोत्सव-2022 में श्रीमती ज्योति तुलस्यान ने अपने बाग में उत्पादित आम्रपाली टॉमी एटकिन्स, सन्सेशन, आम्रपाली, अम्बिका, पूसा श्रेष्ठ, पूसा लालिमा, पूसा अरूणिमा के प्रदर्शन लगाये गये थे। जिसकी सराहना प्रदेश के मा. मुख्यमंत्री जी द्वारा भी की गई थी। श्री वर्मा ने बताया कि विदेशी/संकर प्रजाति के आम एक तो हर वर्ष फलत देते हैं तथा सेमीड्वार्फ होने से सघन बागवानी के लिए बहुत ही उपयोगी हैं।

श्री वर्मा ने बताया कि उत्पादित सभी आम कमरे के तापक्रम पर 12 से 15 दिन तक सुरक्षित रखे जा सकते हैं। इनमें टी.एस.एस. 20.3 प्रतिशत, एसीडिटी 0.20 प्रतिशत, एस्कार्विक एसिड 40.26 प्रति 100 ग्राम, कैरोटीन 11.964 प्रति 100 ग्राम है। सघन बागवानी में कृषक भाई सुगमता से शाकभाजी, मसाला की खेती कर सकते हैं। जिससे उन्हें प्रति हे. अतिरिक्त आय प्राप्त होने से उनकी आय में गुणात्मक वृद्धि होती है। उन्होंने बताया कि विगत वर्ष श्रीमती तुलस्यान द्वारा 2.20 हे. में सघन बागवानी की थी, जिसके तहत उनके द्वारा 5500 आम, अमरूद, किन्नों के पौधों का रोपण किया गया है। साथ ही सहफसली के रूप  में गोभी, टमाटर, शिमला मिर्च, मिर्च, आलू के साथ-साथ संकर तरबूज, लोबिया आदि की खेती की गयी थी। जिससे उन्हें पूरे क्षेत्रफल से लगभग रू. 10 लाख का शुद्ध लाभ प्राप्त हुआ। श्रीमती तुलस्यान के प्रदेश स्तर पर सम्मानित होने पर जनपद के जिलाधिकारी डॉ. दिनेश चन्द्र, ने भी उनके इस ऐतिहासिक प्रयास के लिए बधाई एवं शुभकामनाएॅं दी गईं तथा डीएम द्वारा स्वयं उनकी सघन बागवानी का निरीक्षण भी किया गया।

जिलाधिकारी डॉ. दिनेश चन्द्र ने ब्लाक तजवापुर के ग्राम यादवपुर में सघन बागवानी के मॉडल का निरीक्षण करते हुए श्रीमती तुलस्यान के प्रयासों की सराहना करते हुए जनपद के सभी उद्यमियों तथा कृषकों से सघन बागवानी अपनाये जाने की अपील करते हुए कहा कि सघन बागवानी लघु एवं कृषकों के लिए वरदान है। डीएम डॉ. चन्द्र ने उद्यान विभाग के प्रयासों की सराहना करते हुए उद्यान अधिकारी को निर्देश दिया कि इस का मॉडल का जनपद में व्यापक प्रचार-प्रसार करायें जिससे आकांक्षात्मक जनपद को देश एवं प्रदेश सरकार की मुशानुरूप जिले के कृषकों की आय को दोगुना किया जा सके। डीएम ने कहा कि फील्ड के कर्मचारियों को निर्देशित किया जाय कि सघन बागवानी मॉडल का व्यापक स्तर पर प्रचार-प्रसार कर लोगों को प्रेरित भी करें।