Ranji Trophy Final: फाइनल मुकाबले में मध्य प्रदेश के बल्लेबाजों ने कसा मुंबई पर शिकंजा, मंडराया हार का खतरा

 युग जागरण न्यूज़ नेटवर्क   

Ranji Trophy Final: रणजी ट्रॉफी के फाइनल मुकाबले में मध्य प्रदेश के बल्लेबाजों ने मुंबई पर शिकंजा कसना शुरू कर दिया है। बेंगलुरु के एम चिन्नास्वामी स्टेडियम में खेले जा रहे इस मुकाबले में मुंबई ने पहले बल्लेबाजी करते हुए सरफराज खान के शतक के दम पर बोर्ड पर 374 रन लगाए थे। वहीं तीसरे दिन लंच तक एमपी ने यश दुबे के शतक की मदद से 75 ओवर 1 विकेट के नुकसान पर 228 रन बना लिए हैं। मध्य प्रदेश अब मुंबई से मात्र 146 ही रन पीछे हैं। यश का साथ इस दौरान शुभम शर्मा 88 रन बनाकर दे रहे हैं। दोनों बल्लेबाजों के बीच दूसरे विकेट के लिए 181 रनों की साझेदारी हो गई है।

मध्य प्रदेश के सलामी बल्लेबाज ने रणजी ट्रॉफी के फाइनल में शानदार पारी खेलते हुए टीम को मजबूत स्थिति में पहुंचा दिया है। यश ने अभी तक 235 गेंदों का सामना करते हुए 12 चौकों की मदद से 101 रन बनाए हैं। यह इस सीजन का उनका दूसरा तो फर्स्ट क्लास करियर का तीसरा शतक है। इस सीजन उन्होंने पहला सतक केरल के खिलाफ जड़ा था उस दौरान उन्होंने 289 रनों की पारी खेली थी। यश ने इस सीजन खेले 6 मुकाबलों में 96.83 की औसत के साथ 581 रन बनाए हैं। वह इस सीजन सबसे ज्यादा रन बनाने वाले खिलाड़ियों की सूची में चौथे पायदान पर पहुंच गए हैं। इस सूची के टॉप पर सरफराज खान 937 रनों के साथ मौजूद हैं। यश दुबे ने मुंबई के खिलाफ अपने शतक का जश्न भारतीय सलामी बल्लेबाज केएल राहुल के अंदाज में मनाया है।

मध्य प्रदेश की धाकड़ बल्लेबाजी के चलते मुंबई पर हार का खतरा मंडराने लगा है। दरअसल, रणजी ट्रॉफी का नियम है मगर नॉक आउट स्टेज के मुकाबलों में 5 दिन के अंतराल में अगर दोनों इनिंग पूरी नहीं होती तो नतीजा पहली पारी के आधार पर लिया जाता है। अगर एमपी यहां से मुंबई पर बढ़त हासिल करने में कामयाब रहती है तो वह जीत की तरफ एक कदम बढ़ा लेगी।