लापरवाही किसी भी दशा में बर्दाश्त नही की जायेगी - प्रशांत कुमार

                                        

 युग जागरण न्यूज़ नेटवर्क  

- 16 शिकायतों में मात्र 2  का हुआ निस्तारण , पिछली शिकायतों का क्या हुआ .....  ??  

अजय दुबे कन्नौज

 कन्नौज।थाना समाधान दिवस में पहुंचे आई जी कानपुर उन्होंने कहा कि  अवैध कब्जेदारों के संबंध में आने वाली शिकायतों को चिन्हित कर विधिक कार्यवाही सुनिश्चित की जाये। लापरवाही किसी भी दशा में बर्दाश्त नही की जायेगी। 

आज पुलिस महानिरीक्षक कानपुर रेंज कानपुर  प्रशांत कुमार द्वारा कोतवाली तालग्राम में आयोजित थाना समाधान दिवस के अवसर पर पटटा, अवैध कब्जा, आदि राजस्व विभाग से संबंधित शिकातयों की सुनवाई करते हुये उपस्थित संबंधित अधिकारी, लेखपाल, कानूनगो एवं हल्का प्रभारियों को दिये। 

उन्होनें निर्देशित करते हुये कहा कि थाने की टीम के साथ संयुक्त रूप से राजस्व एंव पुलिस की टीम तैयार कर पट्टो पर अवैध कब्जे एंव थाना दिवस में आने वाली शिकायतों का निस्तारण थाना क्षेत्र में टीम बनाकर योजनांतर्गत कराना सुनिश्चित करें एवं कब्जामुक्त कराने के उपरांत पुनः कब्ज़ा करने वालों के विरुद्ध भी कार्यवाही करना सुनिश्चित करें, जिससे ऐसे व्यक्तियों पर अंकुश लग सके। 

उन्होंने कड़े निर्देश देते हुये कहा कि प्रत्येक थाना दिवस में आने वाले प्रार्थना पत्रों को प्राथमिकता के आधार पर सुना जाये एंव राजस्व व पुलिस विभाग की टीम उसी दिन मौके पर जाकर शिकायतों का निस्तारण करने के साथ ही रजिस्टर में अंकन भी सुनिश्चित करें एवं जिन शिकायतों का मौके पर निस्तारण सम्भव नहीं हैं उन्हें हर संभव प्रयास कर एक सप्ताह में पूर्ण कर संबंधित प्रार्थी को भी बताया जाए। 

उन्होंने कोतवाली तालग्राम में राजस्व एवं पुलिस विभाग से संबंधित प्राप्त कुल 16 प्रार्थना पत्र प्राप्त हुये जिसमें मौके पर 02 शिकायतों का निस्तारण राजस्व एवं पुलिस की संयुक्त टीम को मौके पर भेजकर कराया गया। जब पिछली शिकायतों के बारे में थाना प्रभारी तालग्राम से बात की गई तो उन्होंने बताया कि पिछली बार भी 16 शिकायतों में 7 का निस्तारण हुआ बाकी का नहीं हो सका लेकिन ऐसा नहीं होना चाहिए था कोई भी शिकायत का निस्तारण लंबित नहीं होना चाहिए जब तक अगला समाधान दिवस आए तब तक पिछली समस्याओं का समाधान हो जाना चाहिए।

 लेकिन पिछली शिकायतों का समाधान हुआ य नहीं इसका किसी से कोई लेना देना नहीं । तामझाम से कोसो दूर है सच्चाई क्योंकि आम की आदमी आज भी अपनी समस्या के लिए जिले के आलाधिकारियों की चौखटों के चक्कर लगा रहे हैं। निचले स्तर पर समस्या का हल अगर किया जाने लगे तो शायद बड़े दरवारो में फरियादियों की भीड़ भी कम दिखाई देने लगे । लेकिन ऐसा हो नहीं पा रहा है ।

हुकूमत भी वही है हाकिम भी वही है लेकिन अफसोस की हालत जस के तस है । देखा जाए तो अफसर दौड़ भाग में कोई कसर नहीं छोड़ रहे लेकिन अधीनस्थ अपनी हरकतों से बाज नहीं आ रहा है। उनकी वजह से कभी-कभी अधिकारियों को भी अपने ऊपर नाराजगी  झेलनी पड़ती है।

 उन्होंने थाना समाधान दिवस में उपस्थित लेखपाल एवं राजस्व निरीक्षकों को निर्देश दिए कि यदि किसी पट्टे की भूमि या चक रोड पर किसी व्यक्ति द्वारा कब्जे की शिकायत मिलती है एवं उस शिकायत के निस्तारण स्वरूप एक से ज्यादा बार उस स्थल को कब्जा मुक्त कर दिया जाता है । 

तो उसके उपरांत भी यदि उस स्थल पर वही व्यक्ति पुनः कब्जा करता हुआ पाया जाता है तो संबंधित व्यक्ति के विरुद्ध एफ आई आर दर्ज कराते हुए नियमानुसार गुंडा एक्ट की कार्रवाई सुनिश्चित की जाए। उन्होंने कहा कि पीड़ित व्यक्तियों द्वारा की गई शिकायतों का निस्तारण तत्काल करते हुए समाधान करें, जिससे कि पीड़ित व्यक्तियों को दोबारा शिकायत लेकर न आना पड़े। 

थाना समाधान दिवस में जिलाधिकारी  राकेश कुमार मिश्र एंव पुलिस अधीक्षक प्रशांत वर्मा ने उपस्थित पुलिस अधिकारियों सहित लेखपाल एवं राजस्व निरीक्षकों को निर्देश देते हुए कहा कि पुलिस कोतवाली/थाना समाधान दिवस में आने वाले प्रत्येक व्यक्ति की हर सम्भव सहायता की जाए तथा उनकी शिकायतों को गम्भीरता से सुनकर उनका निस्तारण समय से एवं त्वरित गति से किया जाए। उन्होनें सभी हल्का प्रभारियों को अपने अपने क्षेत्र में नियमित गश्त कर शरारती तत्व व शांति व्यवस्था को खराब करने वालों के विरुद्ध कड़ी कार्यवाही करने के निर्देश दिए। 

साथ ही एक और शिकायत में में मौके पर शिकायतकर्ता  योगेश कुमार ई0प्र0अ0 द्वारा उच्च प्राथमिक विद्यालय मायापूर्वा की जगह में ग्राम मायापुर्वा के कुँमर पाल पुत्र तुलाराम के द्वारा झोपड़ी व ईंटे तथा नरेन्द्र सिंह व गन्धर्व सिंह पुत्र गण कैलाश व पान सिंह पुत्र गण राम स्वरूप व सत्यपाल पुत्र जवाहर लाल कमल किशोर निवासी मायापुर्वा के द्वारा उक्त गाटा संख्या की भूमि पर घूरा, कण्डा, झोपडी आदि रखकर अवैध रूप से कब्ज़ा किये जाने की शिकायत पर उन्होंने तत्काल क्षेत्रीय लेखपाल एवं थाना प्रभारी को संयुक्त रूप से मौके पर जाकर संबंधित के विरुद्ध पुनः कब्ज़ा करने पर तत्काल एफआईआर दर्ज कराए जाने के साथ ही नियमानुसार कार्यवाही किये जाने के निर्देश दिए।