जनता गणित समझ गई है अब किसे लाना होगा

 युग जागरण न्यूज़ नेटवर्क


सत्ता में अगर हर बार आने का ठाना होगा 

विलंब की विचारधारा को जड़ से मिटाना होगा 

जनता गणित समझ गई है अब किसे लाना होगा 

चुनाव जीतने विलंब की विचारधारा भगाना होगा 


शासकीय कर्मियों को विलंब की विचारधारा से 

परियोजनाओं को लागत वृद्धि से बचाना होगा 

विकास की गंगा बहाने का अगर ठाना होगा 

विलंब की विचारधारा को भगाना होगा 


विलंब की विचारधारा को छोड़ना होगा 

कल करने वाला काम आज करना होगा 

इस विचारधारा में बढ़ने वाली लागतो को 

जनहित सुशासन के लिए रोकना होगा 


बड़े बुजुर्गों की कहावतों का पालन करना होगा 

काल करे सो आज आज करे सो अभी 

इस मानसिकता को जेहन में उतारना होगा 

विलंब की विचारधारा को छोड़ना होगा 


लेखक- कर विशेषज्ञ, स्तंभकार, साहित्यकार, कानूनी लेखक, चिंतक कवि, एडवोकेट किशन सनमुखदास भवनानी गोंदिया महाराष्ट्र