मध्य प्रदेश के खिलाफ रणजी ट्रॉफी के खिताबी मुकाबले में मुंबई को लगा दूसरा झटका, अरमान और शॉ लौटे पवेलियन

 युग जागरण न्यूज़ नेटवर्क   

41 बार के चैंपियन मुम्बई ने पहले खिताब की तलाश में लगे मध्य प्रदेश के खिलाफ रणजी ट्रॉफी के फाइनल में टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी करने का फैसला किया है। आदित्य श्रीवास्तव के नेतृत्व वाली मध्य प्रदेश की टीम खिताबी मुकाबले में एक बदलाव के साथ उतरी है। मुंबई के सलामी बल्लेबाज यशस्वी जायसवाल शानदार फॉर्म में हैं। सेमीफाइनल की दोनों पारियों में शतक लगा चुके हैं जायसवाल ने फाइनल में पहली पारी में अर्धशतक जड़ दिया है। उन्होंने 129 गेंदों में अपना अर्धशतक पूरा किया। अपनी पारी में वह तीन चौके और 1 छक्का लगा चुके हैं। 

लंच के बाद पांचवें ओवर में मुंबई को दूसरा झटका लगा है। टीम के स्टार बल्लेबाज अरमान जाफर 56 गेंद में 26 रन बनाकर पवेलियन लौट गए हैं। कार्तिकेय ने उन्हें कैच आउट करवाया। जायसवाल अर्धशतक के करीब पहुंच गए हैं। मध्यप्रदेश के खिलाफ रणजी ट्रॉफी के फाइनल में टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी करने उतरी मुंबई ने पहले दिन लंच तक एक विकेट खोकर 105 रन बना लिए हैं। लंच के समय यशस्वी जायसवाल (43)  और अरमान (14) रन बनाकर खेल रहे हैं। मुंबई को पृथ्वी शॉ के रूप में एकमात्र झटका लगा है। 

मुंबई के कप्तान पृथ्वी शॉ 79 गेंद में 45 रन बनाकर पवेलियन लौट गए हैं। उन्हें अनुभव अग्रवाल ने बोल्ड आउट करके मध्यप्रदेश को पहली सफलता दिलाई। जायसवाल और शॉ के बीच पहले विकेट के लिए 87 रन की साझेदारी हुई। मुंबई ने 19 ओवर में बिना विकेट खोए 65 रन बना लिए हैं। पृथ्वी शॉ और यशस्वी जायसवाल 32-32 रन बनाकर खेल रहे हैं। दोनों के बीच पहले विकेट के लिए 114 गेंदों में 65 रन की साझेदारी हो चुकी है। मध्यप्रदेश के गेंदबाजों ने किफायदी गेंदबाजी की है। लेकिन अभी तक विकेट लेने में नाकामयाब रहे। 

मुंबई के कप्तान पृथ्वी शॉ फाइनल में काफी धीमी पारी खेल रहे हैं। आमतौर पर अपनी तेजतर्रार शुरुआत के लिए फेमस शॉ ने 45 गेंदों में सिर्फ 19 रन बनाए हैं। वहीं उनके जोड़ीदार जायसवाल ने 54 गेंदों में 32 रन बना लिए हैं। मुंबई के सलामी बल्लेबाजी यशस्वी जायसवाल और कप्तान पृथ्वी शॉ ने टीम को दमदार शुरुआत दिलाई है। मुंबई की टीम ने पहले बल्लेबाजी करते हुए 10 ओवर में बिना विकेट खोए 37 रन बना लिए हैं। पृथ्वी शॉ और यशस्वी जायसवाल पारी की शुरुआत करने के लिए उतरे हैं। जायसवाल काफी शानदार फॉर्म में हैं। उन्होंने उत्तर प्रदेश के खिलाफ सेमीफाइनल की दोनों पारियों में शतकीय पारी खेली थी। 

पृथ्वी शॉ (मुंबई कप्तान)- हम पहले बल्लेबाजी करेंगे। यह एक अच्छा विकेट लगता है और मैंने यहां लाल गेंद वाली क्रिकेट खेली है, डेढ़ घंटे की बात है, फिर बल्लेबाजी करना बेहतर होगा। हम क्वार्टर और सेमीफाइनल वाली टीम के साथ ही खेलने उतरे हैं। हर कोई अच्छा काम कर रहा है, युवा भी अच्छा कर रहे हैं। रन बनाना और विकेट लेना। 5-6 साल पहले मैं गुजरात के खिलाफ फाइनल खेल रहा था, फाइनल में मुंबई की कप्तानी करना बहुत अच्छा और गर्व की बात है।