उतरन

 युग जागरण न्यूज़ नेटवर्क  

पूछो अमीरों उन गरीबों से 

उतरन का महत्व कितना होता

अमीरों तुम्हारी उतरन देख कर

गरीब भी कितना पाके खुश होता।।

उतरन अमीरों तुम्हारे लिए पुरानी है

पर वही उतरन गरीब के लिए सुखकारी है

अमीर न समझ पाते पैसों की कीमत 

पर गरीब के लिए हर उतरन भी प्यारी है।।

ऊंची शान से रहने वाले अमीर की

 पोशाक पर एक दाग भारी है।।

पर दस दाग वाली उतरन से भी गरीब 

तन ढक खुश होता सदाचारी है।।

थाली में भी जरूरत से ज्यादा भोजन ले

बरबाद करे अमीर ये अन्न संग मक्कारी है

वही झूठन खाए गरीब लाचारी ही उसकी

पर अन्न के प्रति उसकी वफादारी है।।

अरे अमीरों देखो , सोचो थोड़ा कभी तो 

शादियों में कितनी खाने ,पैसों की बरबादी है।।

सादगी से कर शादी बचाओ पैसा उन पैसों 

से गरीब कि , मानवता भी हमारी जिम्मेदारी है।।

सच उतरन गरीब को प्यारी है।।2।।

वीना आडवाणी तन्वी

नागपुर, महाराष्ट्र