मोबाइल छीन रहा है बच्चों का चैन, अभी से कर लें कंट्रोल

 युग जागरण न्यूज़ नेटवर्क  

कोरोना के कारण बच्चों की पढ़ाई पर बहुत ही असर पड़ा है। बच्चे आलसी और सुस्त हो गए हैं। इस समय के दौरान बच्चे सिर्फ फोन, लैप्टॉप, स्मार्टफोन के ज्यादा करीब हो गए हैं। जिसकी वजह से पढ़ाई में बिल्कुल दिलचस्पी नहीं दिखा रहे। एक्सपर्ट्स के मुताबिक, मोबाइल या फिर लेपटॉप की स्क्रीन के आगे बैठने से उनकी मानसिक और शारीरिक गतिविधियों पर भी बहुत ही गहरा असर पड़ता है। लेकिन माता-पिता कुछ आसान से ट्रिक्स अपनाकर उनकी इस आदत को कंट्रोल कर सकते हैं। तो चलिए जानते हैं इनके बारे में...

बच्चे को बाहर खेलने के लिए करें प्रेरित 

सारा दिन स्क्रिन के आगे बैठने के कारण बच्चों की शारीरिक गतिविधियां कम होने लग गई हैं। इस समस्या से राहत पाने के लिए आप  बच्चों को बाहर खेलने के लिए जरुर भेजें। इससे बच्चे कुछ समय के लिए फोन से दूर रहेंगे। आप उन्हें उनके दोस्तों के साथ भेज सकते हैं। आउटडोर गेम्स खेलने से बच्चों की यह आदत जल्दी छूटने लगेगी। 

बच्चों को सिखाएं प्रकृति से प्रेम करना 

आप बच्चों का ध्यान फोन से हटाने के लिए उन्हें प्रकृति के साथ जोड़ सकते हैं। बच्चों को प्रकृति, जानवरों और पेड़-पौधों से जुड़े कुछ महत्वपूर्ण बातें बता सकते हैं। आप उन्हें किसी नजदीकी पार्क या फिर तालाब की सैर भी करवा सकते हैं। 

बच्चे को किताबें पढ़ने की डालें आदत 

टैक्नोलोजी के इस दौर में बच्चे अपनी किताबों को हाथ लगाना जैसे भूल ही गए हों। वह ऑनलाइन क्लास और इंटरनेट के चलते किताबों में मन ही नहीं लगा पाते। लेकिन आप बच्चों को किताबें पढ़ने की आदत डाल सकते हैं। आप उन्हें उनकी मनपसंद कहानियों की स्टोरी बता सकते हैं। इससे उनका भी मन किताबें पढ़ने के लिए करेगा। 

मोबाइल को लॉक करके रखें

आप बच्चों को मोबाइल से दूर रखने के लिए अपने फोन में लॉक भी लगा सकते हैं। आप बच्चों के फोन चलाने के लिए कुछ समय तय कर सकते हैं। उस समय के अंदर ही आप बच्चों को फोन चलाने के लिए दें। इससे वो खुद ही फोन से दूरी बनाने लगेंगे। 

बच्चे से करवाएं घर के काम

आप बच्चों की सहायता किचन या फिर घर के छोटे-मोटे कामों के लिए ले सकते हैं। जैसे- आप बच्चों को कपड़े सुखाने के लिए दे सकती हैं, आप उन्हें कमरे की डस्टिंग करने के लिए कह सकते हैं, उनके छोटे-छोटे कपड़ों  को तय लगाने के लिए कह सकती हैं। इससे उनका ध्यान डायवर्ट होगा और काम में मन भी लगेगा।