Navratri 2022: नवरात्र के इस दिन होती है विशेष महालक्ष्मी पूजा, जानें इस दिन के बारे में

 युग जागरण न्यूज़ नेटवर्क   

Chaitra Navratri 2022: नवरात्रि में माता के नौ स्वरुप की पूजा की जाती है। लेकिन नवरात्र में एक दिन ऐसा भी होता है जब मां लक्ष्मी की विशेष अराधना करने से मां लक्ष्मी प्रसन्न होती हैं। इस दिन माता लक्ष्मी को प्रसन्न  करने के लिए हवन किया जाता है। कहा जाता है कि इस दिन माता को प्रसन्न करने के लिए विभिन्न चीजें माता को अर्पित की जाती हैं। वह दिन है नवरात्र का पांचवा दिन जिसे चैत्र शुक्ल पंचमी भी कहा जाता है। यह दिन मां लक्ष्मी की अराधना के लिए बहुत ही फलदायी माना गया है।

चैत्र शुक्ल पंचमी को लक्ष्मी जी की विशेष उपासना के विषय में हताया जाता है। कहा गया है कि चैत्र शुक्ल पंचमी को सुविधि लक्ष्मी का अर्चन किया जाए। इस दिन पूजन में धान्य, हल्दी, अदरक, गन्ना, गुड़ आदि अर्पण करके कमल पुष्पों से लक्ष्मीसूक्त से हवन करें। यदि कमल न उपलब्ध हो तो बेल के टुकड़ों और वे भी न हों तो केवल घी का ही हवन करें। इससे विपुल लक्ष्मी की प्राप्ति होती है। मां लक्ष्मी को लाल बिंदी, सिंदूर, लाल चुनरी और लाल चूडियां भी अर्पित करें। कहते हैं कि ऐसा करने से मां लक्ष्मी अपनी कृपा भक्त पर बरसाती हैं।

इसके अलावा नवरात्र में विष्णुप्रिया महालक्ष्मी के आठ रूपों की भी पूजा अर्चना करना चाहिए। इससे आपके घर में सुख समृद्धि रहती है और धनधान्य में वृद्धि होती है। लक्ष्मी जी के आठ रूप माने गए हैं। महालक्ष्मी के रूपों को अष्टलक्ष्मी के नाम से भी पुकारा जाता है।