किसानों व मध्यम वर्ग की आय पर लगातार जले पर नमक छिड़क रही केन्द्र व सूबे की बीजेपी सरकार - प्रमोद तिवारी

 युग जागरण न्यूज़ नेटवर्क  

रामनवमी पर सीडब्ल्यूसी मेंम्बर ने बताया मर्यादा पुरूषोत्तम श्रीराम का जीवन दर्शन कथनी और करनी में सत्य का है समन्वय

लालगंज, प्रतापगढ़। केन्द्रीय कांग्रेस वर्किंग कमेटी के सदस्य प्रमोद तिवारी ने रविवार को रामपुर खास विधानसभा क्षेत्र के मोठिन, सराय लालमती व प्रतापरूद्रपुर गांव पहुंचकर हाल ही में आकस्मिक आगजनी से फसल के नुकसान का जायजा लिया। प्रमोद तिवारी ने इन गांवों के अग्निकाण्ड में फसल नुकसान से प्रभावित पीड़ित किसानों से भी मुलाकात की। श्री तिवारी ने प्रभावित किसानों को स्वयं तथा विधायक आराधना मिश्रा मोना की ओर से निजी और हर सम्भव शासकीय सहायता दिलाए जाने का भरोसा दिलाया। 

विधायक मोना द्वारा की गई निजी सहायता के अलावा प्रमोद तिवारी ने नुकसान प्रभावित मदद से छूटे कुछ किसानों की स्वयं की ओर से भी निजी सहायता राशि सौंपी। प्रमोद तिवारी अग्निकाण्ड से जले खेतों का जब अवलोकन करने पहुंचे तो फसल नुकसान से प्रभावित किसानों की आंखें भी प्रमोद तिवारी के सामने भर उठी दिखी। श्री तिवारी ने पीड़ित किसानों को ढ़ांढस बंधाते हुए अफसरों से फोनिक वार्ता कर शीघ्र इन्हें शासकीय सहायता राशि उपलब्ध कराये जाने के निर्देश दिए। 

वहीं प्रमोद तिवारी से किसानों ने मड़ाई के समय हो रही ग्रामीण अंचलों में विद्युत कटौती की भी समस्या से अवगत कराया। प्रमोद तिवारी ने किसानों से संवाद करते हुए कहा कि सरकार मड़ाई के समय भी दावे के अनुरूप बिजली तो नहीं दे पा रही बल्कि छोटे छोटे बिजली के बकाये के नाम पर किसानों तथा मध्यम वर्ग का कनेक्शन काट कर उनके घाव पर नमक छिड़क रही है। श्री तिवारी ने कहा कि पेट्रोल तथा डीजल के दाम रोज बढ़ाकर पूंजीपति मित्रों को मोदी सरकार फायदा पहुंचाने में जनता के साथ छलावा कर रही है। 

वहीं उन्होंने डीएपी, यूरिया खाद के दामों में अप्रत्याशित अब तक की सबसे बड़ी बढ़ोत्तरी पर सरकार पर हमलावर होते हुए उन्होंने कहा कि भाजपा ने किसान और किसानी को तबाह करने का जो खेल शुरू किया है उसे लेकर समय पर वह भी बड़ी कीमत चुकाने से बच नहीं पाएगी। इसके पूर्व प्रमोद तिवारी ने पैतृक गांव संग्रामगढ़ में राम जानकी मंदिर में श्रीराम जन्मोत्सव में शामिल हुए। प्रमोद तिवारी ने कहा कि मर्यादा पुरूषोत्तम श्रीराम ने लोककल्याण तथा सामाजिक न्याय की स्थापना के लिए वनगमन के संघर्ष के तहत राजसत्ता की मर्यादा को अभिसिंचित किया।

 श्री तिवारी ने कहा कि श्रीराम ने सर्वन्याय तथा सर्वकल्याण के साथ निश्छल बहुल विकास को भी सत्ता की आदर्श मर्यादा की हमें सीख दी। कार्यक्रम में लोक कलाकारों द्वारा श्रीराम संकीर्तन की भी मनोहारी प्रस्तुति से श्रद्धालु मंत्रमुग्ध हो उठे। इस मौके पर भगवती प्रसाद तिवारी, ज्ञानप्रकाश शुक्ल, रामकृष्ण दुबे, गौरीशंकर पटेल, रमारमण शुक्ल, गुड्डू दुबे, राजेश मिश्र, मथुरा प्रसाद द्विवेदी, सुधाकर पाण्डेय, महन्थ दुबे, प्रिंस दुबे, आशीष उपाध्याय, लालजी यादव, रघुनाथ सरोज, रामदुलारे यादव आदि रहे।