धौराहरा बालू खदान, तीर घुमाई गंगू,वियावल बालू खदाने उड़ा रही एनजीटी के नियमों की धज्जियां

 युग जागरण न्यूज़ नेटवर्क 

एम/एस जय माता दी की कंपनी के नाम से चला रहे धौराहरा बालू खदान यमुना नदी से की जा रही नियमों के विरुद्ध बालू की खुदाई।

चित्रकूट जनपद में बालू माफिया आए दिन एनजीटी के नियमों को ताक में रखकर लाल सोने की ओवरलोडिंग सतत जारी। विभागीय कर्मचारियों की सांठगांठ के चलते खुलेआम हो रही लाल सोने की चोरी राजस्व को लाखों का चूना लगाने के लिए आए दिन बालू माफिया एनजीटी नियमों के विरुद्ध बालू की खुदाई करने से बाज नहीं आ रहे जनपद चित्रकूट के अंतर्गत धौराहरा,तीर घुमाई,बियावल, बालू घाट यमुना नदी से अवैध रूप से कर रहे कारोबारओवरलोड ट्रक द्वारा करते हैं शतक और ओवर लोडिंग।

बालू माफिया के सामने संबंधित जिम्मेदार अधिकारी अपनी आंखों पर काली पट्टी बांधे हुए हैं । यह कहने में भी तनिक गुरेज नहीं करना चाहिए की चित्रकूट जनपद के कुछ जिम्मेदार अधिकारीयो व कर्मचारियों की मिलीभगत से हो रहा यह लोल सोने का ओवरलोडिंग का कारोबार। खुलेआम बालू माफिया उड़ा रहे सरकार और शासन प्रशासन की धज्जियां क्या बालू माफियाओं के ऊपर कोई कार्यवाही नहीं होगी अब देखने की बात यह है कि कब और कैसे इस गंभीर विषय को देखते हैं जिम्मेदार ।

आए दिन बेखौफ खनन माफियाओं की वजह से सड़कों के दोनों तरफ वाहनों को घंटों खड़ा कर दिया जाता है जाम लग जाता है जिससे ग्रामीणों को आने-जाने में भारी मशक्कत करनी पड़ती है कभी-कभी तो अस्वस्थ व्यक्ति को हॉस्पिटल पहुंचाने में कई घंटों का सामना करना पड़ता है और एंबुलेंस भी इन वाहनों के चक्कर में घंटों फंसी रहती है जिससे गंभीर बीमार व्यक्ति के साथ कभी भी कोई अप्रिय घटना घट सकती है। 

ओवरलोड वाहनों के कारण सड़क की स्थिति दयनीय होती जा रही है आस पास रह रहे लोगों का कहना हैं की सड़के बड़े गड्ढों में वा उड़ती धूल में तब्दील हो गई हैं किसानों की हजारों बीघा की जमीन व फसल बर्बाद हो रही है इसका हर्जाना कौन देगा यह एक सोचनीय प्रश्न है देश के अन्नदाताओं की कड़ी मेहनत परिश्रम से तैयार फसल बर्बाद हो रही है चित्रकूट जनपद के आला अधिकारियों और प्रदेश सरकार से क्षेत्रीय किसानों ने मांग किया है कि तत्काल प्रभाव से न्याय संगत उचित कार्रवाई करते हुए इन बालू माफियाओं को अंदर लोड बालू का परिवहन कराया जाए और इनसे जो क्षति पहुंची है सड़को और फसलों को उसकी भरपाई के लिए सरकार नियम विरुद्ध कार्य कर रहे बालू माफियाओं के ऊपर दंडात्मक कार्रवाई करके न्याय करें।