नारी मजबूर नहीं मजबूत होनी चाहिए : डॉ. अर्चना द्विवेदी

 युग जागरण न्यूज़ नेटवर्क 

जिला व्यापार मण्डल द्वारा अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस की पूर्व संध्या पर विशेष बैठक का आयोजन

सहारनपुर। 8 मार्च को पूरे विश्व में अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस मनाये जाने के अवसर पर उ.प्र. उद्योग व्यापार मंडल जिला इकाई जनपद सहारनपुर के तत्वावधान में स्थानीय रेलवे रोड पर एक विशेष बैठक का आयोजन किया गया। इसके पश्चात सहारनपुर जनपद की प्रथम महिला अपर जिलाधिकारी प्रशा.डा.अर्चना द्विवेदी को उनके कार्यालय में जाकर जिलाध्यक्ष शीतल टण्डन व जिला संयोजक कर्नल संजय मिडढा द्वारा व्यापार मण्डल की ओर से तिरंगा अंग वस्त्र, पुष्प गुच्छ भेंट कर जनपद के व्यापारियों की ओर से सम्मानित किया गया। इसके लिए डा. द्विवेदी ने व्यापार मण्डल से जुड़े सभी लोगों का हार्दिक आभार प्रकट किया। 

व्यापार मण्डल के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष व जिलाध्यक्ष शीतल टण्डन व जिला महामंत्री रमेश अरोड़ा ने संयुक्त रूप से कहा कि भारत में यह दिन ‘आदर्श नारी दिवस’ के रूप में मनाया जाना चाहिए। क्योंकि हमारे समाज में नारी की सम्मानजनक स्थिति मंे सुधार होने से देश आगे बढ़ेगा। साथ ही हर सफल पुरूष के पीछे एक नारी होती है। देश की आजादी के सात दशकों में नारी ने जीवन के सभी क्षेत्रों में सभी ऊंचाईयों को छुआ है और नारी ही देश की शोभा और शक्ति है। नारी मजबूर नहीं मजबूत होनी चाहिए, और देश को सभी क्षेत्रों में आगे बढ़ाने में महिलाओं का महत्वपूर्ण योगदान है। साथ ही समान अवसर, समान सुविधा, समान अधिकार और उचित सम्मान से ही नारी की स्थिति बदलेगी, वो नारी जो एक बेटी, बहन और आदर्श मां भी बन सके।

 श्री टण्डन ने कहा कि हमारे देश में नारियों ने हर दिशा में जैसे थियेटर संगीत, नृत्य, फिल्मजगत, राजनीति, विचारक, साहित्य, कला, व्यापार, उद्योग, कारपोरेट सैक्टर, खेल, अध्यात्म और साधना आदि के क्षेत्रों में अनगिनत नामों की एक लम्बी सूची है। जिनमें प्रमुख रूप से झांसी की रानी, रजिया सुल्तान, कस्तूरबा गांधी, सरोजनी नायडु, कैप्टन लक्ष्मी सहगल, मदर टेरेसा, महादेवी वर्मा, कल्पना चावला, सुनीता विलीयम, किरण बेदी, लता मंगेशकर, इंदिरा गांधी, सोनिया गांधी, सुषमा स्वराज, निर्मला सीतारमन, मीरा कुमार, सुमित्रा महाजन, स्मृति ईरानी, मायावती, अरूणा आसफ अली, पूर्व राष्ट्रपति श्रीमती प्रतिभा देवी पाटिल, वसुन्धरा राजे सिधिंया, ममता बनर्जी, एम.एस.सुब्बालक्ष्मी एवं भारतीय मूल की अमेरिकी उप राष्ट्रपति कमला हैरिस आदि ऐसे अनगिनत नाम है, जिन्होंने न केवल हमारे देश में बल्कि पूर्व विश्व में ख्याति पायी और नारी सशक्तिकरण के लिए और समाज के सभी क्षेत्रों में अनूठा योगदान दिया। 

श्री टण्डन ने कहा कि पूरे विश्व की नारियों में भारत की नारी सबसे अधिक संस्कारित, अनुशासित, पारिवारिक व परिश्रमी है और आज पूरे विश्व में अमेरिका समेत सभी देशों में भारतीय नारी हर क्षेत्र में बड़े पदों पर विराजमान है। उन्होंने कहा कि नारी जगत ने देश के व्यापार क्षेत्र में भी काफी तरक्की की है। कृषि के बाद व्यापार, उद्योग क्षेत्र सबसे बड़ा है और कृषि उत्पादन व उसकी देखरेख में जहां महिलाओं का महत्वपूर्ण योगदान है, वही व्यापार उद्योग क्षेत्र, बैंकिंग, शिक्षा, विज्ञान,सेना , पुलिस,राजनीति व अन्य क्षेत्रों में महिलाएं अग्रणीय भूमिका निभा रही हैं। श्री टण्डन ने कहा कि हमारे देश में 2 करोड़ 70 लाख परिवार ऐसे हैं जिनकी कमाई का आसरा महिलाओं पर ही टिका है। महिलाएं भारत की आबादी का आधा हिस्सा हैं और महिलाओं के सम्मान में उनकी सुरक्षा व उन पर होने वाले उत्पीड़न के प्रति भी देश जागरूक है। 

श्री टण्डन ने कहा कि सहारनपुर जनपद में विभिन्न सामाजिक व जनहित क्षेत्रों में महिलाएं अपनी अग्रणीय भूमिका निभा रही हैं और इस समय जनपद सहारनपुर में पुलिस प्रशासन विभिन्न सरकारी विभागों, बैंकों व अन्य संस्थाओं में तथा साथ ही राजनीति, कला, साहित्य, थियेटर, शिक्षा, पर्यावरण और सामाजिक सेवाओं में अपना महत्वपूर्ण और सफल योगदान दे रही हैं। उन्होंने कहा कि व्यापार मण्डल द्वारा जनपद सहारनपुर में सम्बन्धित विभागों से मिलकर कामकाजी महिलाओं व गांव तहसील, कस्बा व जिला मुख्यालय स्तर पर संगठित कर उनके हितों की रक्षा की जायेगी तथा इनसे सम्बन्धित विभागीय अधिकारियों से सम्पर्क कर महिला उत्थान में सक्रिय रूप से कार्य किये जायेंगे। बैठक में प्रमुख रूप से जिलाध्यक्ष शीतल टण्डन, जिला महामंत्री रमेश अरोडा, मेजर एस.के.सूरी, पवन गोयल, रमेश डावर, संदीप सिंघल, कर्नल संजय मिडढा, गुलशन नागपाल, अनिल गर्ग, अशोक मलिक आदि व्यापारी प्रतिनिधि मौजूद रहे।