भारत की मशहूर गुफाएं, इस बार जरूर जाएं घूमने अद्भुत नजारों के साथ जानें रोचक कहानियां

 युग जागरण न्यूज़ नेटवर्क  

भारत में घूमने के लिए कई पर्यटन स्थल हैं। यहां देखने लायक कई जगहें हैं, जहां आप सुकून के पल बिता सकते हैं, तो मौज- मस्ती भी कर सकते हैं। भारतीय ऐतिहासिक जगहों की जाकर इतिहास में झांक सकते हैं तो वहीं पहाड़ों, झरनों आदि की प्राकृतिक खूबसूरती को निहार सकते हैं। रोमांटिक जगहों से लेकर एडवेंचर ट्रिप का लुत्फ भी उठा सकते हैं। घूमने के शौकीन लोग हर बार कोई न कोई अलग और खास जगह की तलाश में रहते हैं। समुद्र से लेकर पहाड़ों से घिरे देश की गुफाएं भी प्रसिद्ध हैं। हालांकि गुफाओं के नाम पर लोग मात्र अजंता और एलोरी की गुफा के बारे में ही जानते हैं लेकिन भारत में कई अन्य मशहूर गुफाएं भी हैं। इस बार अलग नजारों की चाह है तो देश की रहस्यमयी गुफाओं को घूम सकते हैं। इस गुफाओं की सुंदरता आपको आकर्षित करेगी तो वहीं यहां कि रहस्यमयी कहानियों को जान आप रोमांचित हो उठेंगे। जानिए भारत की मशहूर और खूबसूरत गुफाओं के बारे में।

खंडगिरि गुफा, उड़ीसा

उड़ीसा के भुवनेश्वर जिले के पास खंडगिरि गुफाएं हैं। यहां 15 अद्भुत और रहस्यमयी गुफाएं हैं। कहा जाता है कि राजा खावेल के शासन काल में इन गुफाओं का इस्तेमाल होता था। भुवनेश्वर की इन मशहूर गुफाओं में सबसे जरूरी गुफा का नाम अनंत गुफा है। इस गुफा में महिलाएं, एथलीट और हाथियों को दर्शाया गया है। 

बादामी गुफा, कर्नाटक

कर्नाटक के उत्तरी भाग में बागलकोट जिले के बादामी में स्थित इन गुफाओं का धार्मिक महत्व है। बादामी गुफाएं चार है, जिनका इतिहास 6ठी और 7वीं ई पुराना है। इनमें से तीन गुफाओं में ब्राह्मणवादी मंदिर बने हैं और चौथी गुफा में जैन मंदिर स्थित है। गुफा में सुंदर मूर्तियां हैं।

उंडवल्ली गुफा, आंध्र प्रदेश

आंध्र प्रदेश के विजयवाड़ा से करीब 8 किलोमीटर की दूरी पर कृष्णा नदी के तट पर उंडवल्ली गुफा स्थित है। राॅक-कट वास्तुकला के इस बेहतरीन नजारों वाली गुफा को ठोस बलुआ पत्थर से तराश कर बनाया गया था, जिसे विष्णिकुंडिन राजाओं को समर्पित किया गया। इस गुफा में भगवान विष्णु की मूर्ति है, जो वैराग्य मुद्रा में है।

बोर्रा गुफा

आंध्र प्रदेश के विशाखापट्टनम से लगभग 90 किलोमीटर दूर बोर्रा गुफाएं हैं, जो हजारों साल पुरानी हैं। इन गुफाओं को 1807 में ब्रिटिश भूविज्ञानी विलियम किंग ने तलाश किया था। इस गुफा में प्राकृतिक शिवलिंग है, जहां आसपास के गांवों के लोग आकर पूजा करते हैं।