चित्रकूट में श्रीमद् भागवत कथा:5वें दिन कथा व्यास ने कृष्ण की बाल लीलाओं का वर्णन किया

 युग जागरण न्यूज़ नेटवर्क 

कथा सुन श्रोता हुए भाव विभोर

चित्रकूट ।श्रीमद्भागवत कथा के पांचवें दिन कथा व्यास अभिषेक अवस्थी ने भगवान श्री कृष्ण की विभिन्न बाल लीलाओं और रासलीला का भावपूर्ण वर्णन किया। श्रीमद्भागवत कथा के पांचवें दिन कथा व्यास अभिषेक अवस्थी ने भगवान श्री कृष्ण की विभिन्न बाल लीलाओं और रासलीला का भावपूर्ण वर्णन किया।

चित्रकूट में जिला मुख्यालय से सटे तरौंहा में गोपाल कुंज में आयोजित की जा रही है। सप्त दिवसीय संगीतमय श्रीमद्भागवत कथा के पांचवें दिन कथा व्यास अभिषेक अवस्थी ने भगवान श्री कृष्ण की विभिन्न बाल लीलाओं और रासलीला का भावपूर्ण वर्णन किया। भगवान श्री कृष्ण की मनोरम झांकी का अवलोकन कराया है।

कथा व्यास ने कृष्ण जन्म कथा के बाद कथा को आगे बढ़ाते हुए पूतना वध, यशोदा मां के साथ बालपन की शरारतें, भगवान श्रीकृष्ण का गो प्रेम, कालिया नाग मान मर्दन, माखन चोरी गोपियों का प्रसंग सहित अन्य कई प्रसंगों का कथा के दौरान वर्णन किया। कंस का आमंत्रण मिलने के बाद भगवान श्री कृष्ण बड़े भाई बलराम जी के साथ मथुरा को प्रस्थान करते हैं। श्रीमद् भागवत कथा के दौरान कथा व्यास द्वारा बीच-बीच में सुनाए गए भजन पर श्रोता भाव विभोर हो गए।

कथा सुनाते व्यास अभिषेक अवस्थी

हरी नाम से ही जीव का कल्याण हो जाता

कथा व्यास ने बताया कि भागवत कथा विचार, वैराग्य, ज्ञान और हरि से मिलने का मार्ग बता देती है। कलयुग की महिमा का वर्णन करते हुए कहा कि कलयुग में मानस पुण्य तो सिद्ध होते हैं। परंतु मानस पाप नहीं होते। कलयुग में हरी नाम से ही जीव का कल्याण हो जाता है। कलयुग में ईश्वर का नाम ही काफी है सच्चे हृदय से हरि नाम के सुमिरन मात्र से कल्याण संभव है।

इसके लिए कठिन तपस्या और यज्ञ आदि करने की आवश्यकता नहीं है। जबकि सतयुग, द्वापर और त्रेता युग में ऐसा नहीं था।इस मौके पर आयोजक गोरिया देवी पत्नी देवी दयाल कुशवाहा, रमेश अवस्थी, अतुल अवस्थी, राममिलन कुशवाहा, होरीलाल कुशवाहा, जग रनिया कुशवाहा सहित तमाम श्रद्धालु मौजूद रहे।