आधुनिक भारत की प्रथम शिक्षिका : सावित्रीबाई फुले

युग जागरण न्यूज़ नेटवर्क

आज देश के समाज जीवन के प्रत्येक क्षेत्र मेें महिलाओं ने अपनी सशक्त उपस्थिति दर्ज कराई है। पर डेढ़ सौ साल पहले यह कल्पना करना भी बेमानी था कि कोई बालिका शिक्षा के द्वार पर दस्तक दे। शिक्षा अधिकार अधिनियम-2009 ने देश के सभी बच्चों को बिना बाधा, रुकावट एवं भेदभाव के शिक्षा प्राप्त कर सकने का विस्तृत फलक तैयार किया है। यही कारण है कि विभिन्न जाति समूहों की बालक-बालिकाएं आज बड़ी संख्या में शिक्षा प्राप्त कर रहे हैं। लेकिन आज से डेढ़-दो सौ वर्ष पहले का शैक्षिक दृश्य ऐसा नहीं था। तब शिक्षा समाज के कुछ वर्गों के लोगों की परिधि तक ही सीमित थी। विशेषकर महिलाओं के लिए शिक्षा संस्थानों के दरवाजे बंद थे। महिलाओं का घर के कामकाज एवं चूल्हा-चौका में कुशल होना ही पर्याप्त था। बालिकाओं का पुस्तक का स्पर्श कर लेना भी मानो अपराध था। ऐसे समय में भारत में एक बालिका ने जन्म लिया जिसका नाम है सावित्री बाई। हां, वहीं सावित्रीबाई फुले जिसने आगे चलकर महिलाओं के लिए न केवल शिक्षा के बंद रास्ते खोले बल्कि उनकों आर्थिक दृष्टि से भी सक्षम बनाया।

          3 जनवरी 1831 को महाराष्ट्र के सतारा जिले की खंडाला तहसील के नायगांव में एक पिछड़े वर्ग के परिवार में सावित्रीबाई का जन्म हुआ था। सावित्री को किसी स्कूल भेजने का प्रश्न ही नहीं था क्योंकि उस काल में तो वंचित एव पिछड़े वर्ग के बालकों को भी सामान्यतया स्कूल भेजने की कोई परम्परा नहीं थी। पिता खंदोजी नावसे पाटिल और माता लक्ष्मीबाई ने तत्कालीन परिस्थितियों एवं सामाजिक रीति-रिवाज के कारण 9 वर्ष की छोटी अवस्था में ही सावित्री का विवाह पुणे के 12 वर्षीय ज्योतिराव गोविन्दराव फुले के साथ 1840 में कर दिया। ज्योतिराव ने पांचवीं तक ही शिक्षा प्राप्त कर सके थे क्योंकि परिवार के पुश्तैनी फूलों के व्यवसाय एवं खेती के काम में सहयोग देने के लिए उन्हें स्कूल से निकाल लिया गया था। विवाह के बाद ज्योतिबा ने सावित्रीबाई को पढ़ाना आरम्भ किया। उस दौर में किसी महिला का शिक्षा प्राप्त करना एक प्रकार से पाप कर्म समझा जाता था। फलतः ज्योतिबा का विरोध शुरू हो गया। लेकिन उन्होंने हार नहीं मानी और चोरी छिपे पढ़ाना-लिखाना जारी रखा। ज्योतिबा ने खेत की मेंड़ पर भी आम के पेड़ के नीचे आम की पतली टहनी की कलम बनाकर अक्षर ज्ञान कराया। किसे मालूम था कि उस खेत की जमीन में धूल पर उकेरे गये पहले अक्षर एक तेजस्विनी अग्नि को जन्म देने वाले थे जिसे समाज में व्याप्त भेदभाव, बंदिशंे और गैरबराबरी की कलुष बेड़ियों को जलाकर महिलाओं एवं वंचित समाज के लिए विकास का एक राजपथ तैयार करना था जिस पर चलते हुए वे सिर उठाकर आत्मविश्वास और आत्मगौरव के साथ जी सकें। इस तरह खेत और घर पर सावित्री बहुत संघर्ष के साथ अक्षर ज्ञान कर सकीं। फिर बाद में एक ब्रिटिश अधिकारी की पत्नी मिसेज मिसेल ने बालिकाओं के लिए 1840 में पुणे में छबीलदास की हवेली में एक नार्मल स्कूल प्रारम्भ किया तो सावित्री वहीं पढ़ने लगीं। वहीं पढ़ते समय सावित्री ने गुलामी प्रथा के विरुद्ध काम करने वाले थामस क्लार्कसन की जीवनी पढ़ी जिसमें अमेरिका के अफ्रीकी गुलामों के जीवन और संघर्ष की दर्दनाक दास्तान छपी थी। सावित्री समझ र्गइं कि शिक्षा ही बदलाव का मजबूत औजार है क्योंकि अशिक्षित व्यक्ति न तो अपने अधिकार जान सकता और न ही उनकी प्राप्ति के लिए लड़ाई लड़ सकता। इस किताब ने उनके अन्दर स्वयं पढ़ने की ललक तो जगायी ही बल्कि समाज की बालिकाओं को शिक्षित करने का एक स्वप्न भी दिया।  

बालिकाओं  को शिक्षा से जोड़ने के लिए 1 जनवरी 1848 में ज्योतिबा के साथ मिलकर विभिन्न जातियों की चार से छह वर्ष की 9 बालिकाओं, जिनमें अन्नपूर्णा जोशी, सुमती मोकाशी, दुर्गा देशमुख, माधवी थत्ते, सोनू पवार और जानी करडिले शामिल थीं, को लेकर तात्याभाई भिड़े बाड़ा, बुधवारपेठ पुणे में कन्या विद्यालय स्थापित किया। जहां सगुणबाई ने भी शिक्षिका के रूप में काम किया। इस विद्यालय में बालिकाओं ने गणित, व्याकरण, भूगोल, भारत सहित यूरोप एवं एशिया के नक्शों की जानकारी, मराठों का इतिहास तथा नीति एवं बाल बोध विषयों को पढ़कर देश के शैक्षिक फलक में अपनी जीवन्त उपस्थिति दर्ज करायी। विद्यालय के लिए पुस्तकों का प्रबन्ध सदाशिव गोवंदे ने किया। लेकिन एक दलित महिला का यह शैक्षिक प्रयास समाज के स्वयंभू ठेकेदारों को फूटी आंखों नहीं सुहा रहा था। उन्हें लगा कि यदि महिलाएं शिक्षित हो र्गइं तो उन्हें बरगलाना आसान न होगा। फलतः स्कूल पर हमला हुआ तो बालिकाओं की सुरक्षा को ध्यान रखते हुए विद्यालय बंद करना पड़ा। विरोधियों को लगा होगा कि उन्हें विजय मिल गई लेकिन यह उनकी भूल थी। सावित्रीबाई तो किसी और ही मिट्टी की बनी थी। निराश होकर हाथ पर हाथ धर बैठ जाना उन्हें स्वीकार न था। कुछ ही समय बाद, 15 मई 1848 को दलित बस्ती में दलित बालक-बालिकाओं के लिए एक अन्य स्कूल खोला। एक वर्ष के अंदर 5 विद्यालय स्थापित किये। वह केवल महिलाओं एवं दलित जनों के शिक्षा-दीक्षा और आर्थिक विकास तक ही सीमित नहीं थीं बल्कि अल्पसंख्यक समुदाय की निम्न शैक्षिक स्थिति को लेकर भी चिंतित थीं। तो उन्हें भी शिक्षा की मुख्यधारा से जोड़ने के लिए अपनी स्कूल की छात्रा फातिमा शेख को अपने एक स्कूल में शिक्षिका बनाकर प्रथम मुस्लिम महिला शिक्षिका होने का गौरव प्रदान किया जो बाद में देश की प्रमुख सामाजिक कार्यकत्र्री बनीं। इस प्रकार सावित्रीबाई ने ज्योतिबा के साथ मिलकर 1 जनवरी 1848 से 15 मार्च 1852 की अवधि में पुणे और उसके आसपास 18 विद्यालय बिना किसी बाहरी आर्थिक मदद के निजी सामथ्र्य से स्थापित किए जहां सैकड़ों की संख्या में बच्चों ने शिक्षा प्राप्त कर अपने जीवन को संवारा। ब्रिटिश सरकार ने उन्हें 16 नवम्बर, 1852 को सर्वश्रेष्ठ शिक्षक का सम्मान प्रदान किया था। 1855 में फुले दम्पति ने किसानों के लिए एक रात्रिकालीन स्कूल भी खोला। 24 सितम्बर, 1873 को सत्य शोधक समाज की स्थापना की।

          उनके कोई संतान न थी, स्कूल के बच्चे ही उनका सर्वस्व थे। जब सावित्रीबाई अपने विद्यालयों में बच्चों को पढ़ाने जातीं तो विरोधी उनके ऊपर कूड़ा-कचरा, गंदगी, विष्ठा फेंक देते थे। लेकिन ध्येयनिष्ठ सावित्री अपने लक्ष्य से कभी विचलित नहीं हुईं बल्कि कहीं अधिक आत्मविश्वास और साहस से अपने कर्तव्यपथ पर सतत् बढ़ती रहीं। वह अपने साथ एक झोले में एक अतिरिक्त साड़ी रखतीं और विद्यालय पहुंचने पर विरोधियों द्वारा फेंकी गई गंदगी को साफ कर दूसरी साड़ी पहन लेतीं। सावित्री ने जो रास्ता चुना थो उसमें फूल नहीं बल्कि पग-पग पर कांटे बिखरे हुए थे। लेकिन उन कांटों की चुभन में भी उन्हें खुशी होती कि वह स्त्री शिक्षा और उनके अधिकारों के लिए कुछ कर पा रही हैं। भारत सरकार ने 10 मार्च 1998 को सावित्रीबाई पर 2 रुपये का डाकटिकट जारी कर उनके शैक्षिक एवं सामाजिक अवदान के महत्व को रेखांकित करते हुए सार्थक श्रद्धांजलि प्रदान की। ‘गूगल’ ने 2017 में उनकी 186वीं जयंती पर ‘डूडल’ के जरिए उन्हें स्मरण किया जिसमें सावित्रीबाई को महिलाओं को अपने आंचल में समेटते दिखाया गया है। महाराष्ट्र सरकार ने 2015 में पुणे विश्वविद्यालय का नाम बदलकर सावित्रीबाई फुले विश्वविद्यालय कर उनकी स्मृति को चिर स्थायी कर दिया। कई नगरों में चौराहों पर उनकी मूर्तियां लगायी गयीं। 10 मार्च 1897 को पुणे में उनका निधन हो गया। सावित्रीबाई आज हमारे बीच नहीं पर उनके किए गये कार्य हमें रास्ता दिखाते रहेंगे।

            ••

प्रमोद दीक्षित ‘मलय‘

सम्पर्क - बाँदा, (उ0प्र0)  मोबा:  94520-85234