जा रहे दार्जिलिंग घूमने तो जगहों पर जाना न भूले

 युग जागरण न्यूज़ नेटवर्क 

पश्चिम बंगाल में पूर्वी हिमालय में स्थित दार्जिलिंग पहाड़ियों के बीच बसा एक बहुत ही खूबसूरत हिल स्टेशन है। 19वीं शताब्दी के मध्य में अंग्रेजों द्वारा विकसित होने से पहले यह सिक्किम के राज्य का हिस्सा था और नेपाल से गोरखाओं पर आक्रमण करके अस्थायी रूप से शासित भी किया गया था। दार्जिलिंग पश्चिम बंगाल के बेहतरीन पर्यटन स्थलों में से एक है। हर साल यहां भारी मात्रा में टूरिस्ट घूमने के लिए आते हैं, खासकर न्यूल मैरिड कपल्स। ऐसे में अगर आप भी दार्जिलिंग घूमने का प्लान बना रहे हैं तो हम आपको बताएंगे कि इस हिल स्टेशन में आप किन-किन जगहों का लुफ्त उठा सकते हैं।

टॉय ट्रेन (Himalayan Mountain Railway Toy Train)

चाय के अलावा दूसरी चीज़ जो दार्जिलिंग के लिए मशहूर है वो है इसकी ऐतिहासिक टॉय ट्रेन। दार्जिलिंग हिमालयन रेलवे टॉय ट्रेन का मजा लिए बिना इस हिल स्टेशन की यात्रा अधूरी है, जिसे 1881 में अंग्रेजों द्वारा पूरा किया गया था और यह यूनेस्को की विश्व धरोहर स्थल है।

बतासिया लूप (Batasia Loop)

दार्जिलिंग से लगभग 5 कि.मी. की दूरी पर स्थित, बतासिया लूप एक सर्पिल रेलवे ट्रैक है, जहां टॉय ट्रेन पूरे 360 डिग्री मोड़ लेती है। टॉय ट्रेन 1,000 फीट नीचे उतरती है क्योंकि यह एक बड़े गोलाकार क्षेत्र के माध्यम से लूप को पूरा करती है।

टाइगर हिल (Tiger Hill)

अगर आप कंचनजंगा की चोटियों से सूरज की किरणों को टकराते हुए देखना चाहते हैं तो टाइगर हिल पर जरूर जाएं। यहां आप दक्षिण में कुरसेओंग को कई नदियों के साथ बहते हुए देख सकते हैं। इसके अलावा आपको यहां विभिन्न जानवर और पक्षी भी देखने को मिलेंगे।

कोकिला पार्क (Nightingale Park)

इस पार्क को पहले 'द श्रुबरी' कहा जाता था। पार्क लगभग 4 वर्षों के लिए नवीनीकरण के लिए बंद कर दिया गया था और 2011 से जनता के लिए दोबारा खोल दिया गया है। यहां आप संगीतमय फव्वारा और भगवान शिव की एक विशाल मूर्ति देख सकते हैं।

दार्जिलिंग रॉक गार्डन (Darjeeling Rock Garden)

रॉक गार्डन या बारबोटी गार्डन, शहर से लगभग 10 कि.मी. दूर स्थित है। बगीचे में बेंच विभिन्न स्तरों पर चट्टानों को काटकर बनाई गई हैं, जिसे देखने के लिए टूरिस्ट की भीड़ लगी रहती है।