डीएम ने मेगा टीकाकरण अभियान का किया औचक निरीक्षण

                                   
युग जागरण न्यूज़ नेटवर्क 

- टीकाकरण में लापरवाही पर डीएम ने डीआईओएस से मांगा स्पष्टीकरण

-  माह जनवरी का वेतन रोकने के दिए निर्देश

बांदा। बुधवार को जिलाधिकारी अनुराग पटेल द्वारा राजकीय इण्टर कालेज बांदा, आदर्श बजरंग इण्टर कालेज बांदा, डीएवी इण्टर कालेज बांदा, आर्य कन्या इण्टर कालेज बांदा, सरस्वती बालिका विद्या मन्दिर इण्टर कालेज बांदा, सेन्ट जेवियर्स हाई स्कूल बांदा में चल रहे 15 वर्ष से 18 वर्ष के बच्चों के मेगा कोविड टीकाकरण अभियान का आकस्मिक निरीक्षण किया गया।

निरीक्षण के दौरान राजकीय इण्टर कालेज बांदा, डी0ए0वी0 इण्टर कालेज बांदा एवं सरस्वती बालिका विद्या मन्दिर बांदा में कोविड टीकाकरण हेतु बच्चें उपस्थित नहीं पाये गये। जिसके सम्बन्ध में प्रधानाचार्याे से जानकारी करने पर उनके द्वारा कोई संतोषजक उत्तर नहीं दिया जा सका। इसी प्रकार आदर्श बजरंग इण्टर कालेज बांदा एवं आर्य कन्या इण्टर कालेज बांदा में क्रमशः 128 एवं 17 बच्चें टीकाकरण हेतु उपस्थित पाये गये। विद्यालयों में बच्चों की उपस्थिति के सम्बन्ध में जिला विद्यालय निरीक्षक बांदा से जानकारी करने पर उनके द्वारा बताया गया कि वह जिला परिषद कार्यालय में है। जबकि जिलाधिकारी द्वारा प्रतिदिन जूम मीटिंग में जिला विद्यालय निरीक्षक बांदा को विद्यालयों में टीकाकरण हेतु बच्चों की शतप्रतिशत उपस्थिति सुनिश्चित कराये जाने के निर्देश दिये जा रहे है, परन्तु जिला विद्यालय निरीक्षक बांदा द्वारा विद्यालयों के प्रधानचार्याे/अध्यापकों को काल करके 15 वर्ष से 18 वर्ष के बच्चों के मेगा कोविड टीकाकरण अभियान के तहत विद्यालयों में पढ़ रहे बच्चों का शतप्रतिशत टीकाकरण कराये जाने के सम्बन्ध में कोई कार्यवाही नहीं की जा रही है। जिलाधिकारी द्वारा आज कई विद्यालयों का निरीक्षण किया गया। निरीक्षण के दौरान विद्यालयों में प्रधानाचार्य व अध्यापकगण बैठे हुये पाये गये।

जिलाधिकारी द्वारा 15 वर्ष से 18 वर्ष के बच्चों के मेगा कोविड टीकाकरण अभियान के तहत विद्यालयों में पढ़ रहे बच्चों का शतप्रतिशत टीकाकरण हेतु बच्चों की उपस्थिति न होने के सम्बन्ध में जिला विद्यालय निरीक्षक, बांदा से स्पष्टीकरण मांगा तथा माह जनवरी, 2022 का वेतन भी रोका गया। साथ ही जिन विद्यालयों की टीकाकरण की स्थिति खराब है वहां के प्रधानाचार्याे को जिला विद्यालय निरीक्षक द्वारा नोटिस निर्गत करने के निर्देश दिये।