स्वामी करपात्री जन्मस्थली मे हुआ कवि सम्मेलन एवं सम्मान समारोह का आयोजन

युग जागरण न्यूज़ नेटवर्क

लालगंज, प्रतापगढ़। धर्म सम्राट स्वामी करपात्री जी महाराज की जन्मस्थली भटनी मे कवि सम्मेलन एवं स्वामी करपात्री सम्मान समारोह का आयोजन किया गया। कार्यक्रम की अध्यक्षता राष्ट्रीय कवि संगम काशी प्रांत के अध्यक्ष अंजनी अमोघ एवं संचालन संयोजक कवि सौरभ ओझा ने किया। कवि सम्मेलन में बिहारीलाल अम्बर ने लोगो को खूब हंसाया। अमेठी के ओज कवि अनुरूद्ध मिश्रा ने पढा- कलम का सिपाही भले कुछ भी हो झूठ को सच मैं कहना नहीं जानता। वहीं अनूप प्रतापगढ़ी ने पढा-तुम्हारी याद में देखो अभी तक हूँ यहीं बैठा, कहाँ जाऊँ, किधर जाऊँ, नही दिखती कोई राहें। प्रयागराज के युवा कवि अमित आभाष की पंक्तियां भगत बोस आजाद के जैसे अंगारो सी जवानी हो, दुश्मन से यदि जंग छिडे तो दुश्मन पानी पानी हो। लखनऊ के जितेंद्र जय ने भी लोगों को रंगत मे लाते हुए गुनगुनाया-मेहनत पर भरोसा आज भी है, नुमाइश के शौक पाले नहीं ध्रुव सनकी ने भी गजब का रंग जमाया। कार्यक्रम में ओज कवि अंजनी अमोघ ने अपनी रचनाओं से राष्ट्रीयता का संचार पैदा किया। अमोघ की लाइनें शिल्पी हूँ और परवाज़ भरता हूँ रस छन्द से कविता में साज़ भरता हूँ पर जमकर तालियां बजी दिखी। आयोजक कवि सौरभ ओझा की बने जो यह गोकुल तो भी घनश्याम बन जिऊ भी सराही गयी। कार्यक्रम की शुभारंभ यूथ कांग्रेस अमेठी के जिलाध्यक्ष अर्जुन पासी के साथ बिजय मिश्रा बाबी ने मां सरस्वती के चित्र पर माल्यार्पण कर किया। विशिष्ट अतिथि सुनील त्रिपाठी ने कहा की इस तरह का आयोजन सामाजिक एवं राष्ट्रीय चेतना का संचार किया करता है। अति विशिष्ट अतिथि क्षेत्रीय विधायक आराधना मिश्रा मोना के मीडिया प्रभारी ज्ञानप्रकाश शुक्ल ने कहा कि स्वामी करपात्री जी महाराज का हमारे जनपद मे जन्म लेना विश्व की सनातन आस्था के लिए गर्व है।  आभार प्रदर्शन राकेश चतुर्वेदी एवं प्रधान प्रतिनिधि अशोक सिंह ने सभी का स्वागत किया। वहीं प्रारम्भ मे कार्यक्रम के ध्येय पर प्रकाश डालते हुए डा. देवेश त्रिपाठी ने स्वामी करपात्री जी महाराज के जीवन चरित्र का बखान किया। इस मौके पर एसएन त्रिपाठी, देवेंद्र त्रिपाठी, कुलदीप पाण्डेय, राजू शुक्ल, रामजीत सरोज, हरिश्चन्द्र सरोज, प्रमोद सरोज, शास्त्री सौरभ त्रिपाठी, सचिन शर्मा, संजय ओझा, प्रेम प्रकाश पाण्डेय, राम नरेश यादव, सोनू पाण्डेय, संदीप सरोज, शिवकुमार ओझा, अविनाश चंद्र पाण्डेय, नवीन द्विवेदी, सौरभ द्विवेदी, राहुल सिंह आदि रहे।