नए साल पर वैष्णो देवी में अचानक मची भगदड़, हादसे में 12 लोगों की हुई मौत

युग जागरण न्यूज़ नेटवर्क

जम्मू : नए साल पर माता से मन्नत मांगने के लिए हम भवन में पहुंचे थे। करीब 12 बजे के आसपास हम पांच लोग भवन के पास पहुंचे। इसके बाद दर्शन करने वालों की लाइन में लग गए। मौके पर बड़ी संख्या में महिलाओं, पुरुषों और बच्चों की कतार लगी हुई थी। इस बीच लोगों ने नए साल का जश्न मनाते हुए माता के जयकारे लगाने शुरू कर दिए। करीब 2.30 बजे गेट नंबर 3 के के आसपास लोगों की भीड़ बढ़ने लगी थी। तभी जोरदार धक्का लगा और ढलान पर खड़े लोग गिरते चले गए और भीड़ उन्हें रौंदते हुए आगे निकल गई। इसके बाद अफरा-तफरी और चीखपुकार मच गई। इस खौफनाक घटना की जानकारी हादसे में घायल साहिल कुमार, मुंबई से आए ऋषिकेश, विकास तिवारी और सुमित ने दी। इनको प्राथमिक उपचार के लिए बाणगंगा स्थित अस्पताल ले जाया गया है।  

हादसे की सूचना के बाद श्राइन बोर्ड के पदाधिकारी और सुरक्षाकर्मियों ने मोर्चा संभाला और यात्रा को रोक दिया। श्रद्धालुओं और सुरक्षाकर्मियों ने सभी घायलों को स्थानीय अस्पताल पहुंचाया। तब तक 12 लोग दम तोड़ चुके थे। डीजीपी दिलबाग सिंह ने घटना का कारण दो लोगों में झगड़े के बाद हुई धक्का-मुक्की बताई। अभी भी 15 घायलों का प्राथमिक तौर पर अलग-अलग अस्तपताल में उपचार चल रहा है। सुबह आठ बजे स्थिति सामान्य होने पर यात्रा सुचारु करवाई गई। कटड़ा ब्लाक मेडिकल आफिसर डॉक्टर गोपाल दत्त ने भगदड़ में 12 लोगों की मौत की पुष्टि की है। 

उपराज्यपाल मनोज सिन्हा ने भगदड़ के कारण हुई मौतों की जांच के लिए उच्च स्तरीय कमेटी गठित करने को कहा है। इसमें प्रिंसिपल सेक्रेटरी (गृह) के अलावा एडीजीपी, कमिश्नर शामिल होंगे। राज्य सरकार ने हादसे में जान गंवाने वालों को लोगों के परिजनों को 10 लाख और घायलों को 2 लाख रुपये देने की बात कही है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, गृहमंदत्री अमित शाह समेत अन्य लोगों ने इस घटना पर दुख जताया है। गृहमंत्री शाह ने उच्च स्तरीय जांच के आदेश दिए। प्रधानमंत्री ने जान गंवाने वाले प्रत्येक शख्स के परिवार को रिलीफ फंड से 2 लाख रुपये और घायलों को 50 हजार रुपये देने का ऐलान किया।