व्यापारी पुत्र की हत्या को लेकर दूसरे दिन भी नेशनल हाइवे पर जाम, दो बालअपचारी धराये

युग जागरण न्यूज़ नेटवर्क 

लालगंज, प्रतापगढ़। व्यापारी पुत्र की नृशंस हत्या को लेकर मंगलवार को भी सगरा सुंदरपुर मे व्यापारियों तथा कस्बावासियों मे भारी आक्रोश का उबाल दिखा। सुबह से ही व्यापारियों ने व्यापारिक प्रतिष्ठान बंद कर गुस्से का इजहार किया। वहीं आक्रोशित व्यापारियों ने पुलिस व प्रशासनिक अफसरो पर घटना मे लापरवाही का ठीकरा फोडते हुए नेशनल हाइवे पर जाम भी लगा दिया। करीब चार घंटे तक व्यापारियों व कस्बे के लोगों ने नेशनल हाइवे लखनऊ वाराणसी के सगरा सुंदरपुर लक्ष्मणपुर मोड़ पर जाम लगाकर पुलिस की नाक मे दम कर रखा था। एसडीएम तथा सीओ की मानमनौवल व परिजनों के मांग पत्र पर आश्वासन के बाद ही व्यापारियों का आक्रोश शांत हो सका। हालांकि पुलिस ने व्यापारी के मासूम पुत्र की हत्या मे दो बालअपचारियों को हत्या मे प्रयुक्त चाकू व ईट के साथ हिरासत मे लेने मे जरूर सफलता भी हासिल की है। कोतवाली के सगरा सुंदरपुर निवासी मदन लाल केसरवानी व्यापारिक कारोबारी है। पिछली पचीस दिसंबर को शाम पांच बजे बाजार से ही मदन का पुत्र अंशू केसरवानी 17 अचानक लापता हो गया। पुलिस ने मदन केसरवानी की तहरीर पर अज्ञात के खिलाफ अपहरण का केस दर्ज कर लिया। घटना का खुलासा न होने पर सोमवार को भी जिले मे सीएम के दौरे के बावजूद आक्रोशित व्यापारियों ने नेशनल हाइवे पर जाम लगा दिया। जाम को देखते हुए सीओ ने घटना के खुलासे के लिए कुछ घण्टों की मोहलत मांगी। इधर घटना के देर रात से ही कोतवाली पुलिस दो संदिग्ध बालकों को हिरासत मे लेकर पूछताछ मे जुटी थी। सोमवार की दोपहर बाद हिरासत मे लिये गये संदिग्ध पुलिस की पूछताछ के सामने टूट गये और इनकी निशानदेही पर नेशनल हाइवे के टेढ़ुई पुलिया के पास एक चिकित्सक के खाली पड़े निर्माणाधीन मकान मे अंशू का शव पुलिस ने बरामद कर लिया। पुलिसिया पूछताछ मे पकडे गये आरोपी कोतवाली के शकूहाबाद निवासी राजेश गिरि के पुत्र कृष्णा गिरि 15 तथा हदिराही निवासी भोला नाथ दुबे के पुत्र शेखर 17 ने अंशू की चाकू से गोदकर तथा सिर पर ईट से हमलाकर हत्या की बात कबूली। आरोपियों की निशानदेही पर जहां मृतक अंशू का शव बरामद करने मे पुलिस कामयाब हुई वहीं हत्या मे प्रयुक्त चाकू व एक ईट तथा पकड़े गये बाल आरोपियों के खून से रंगे एक जैकेट व एक ईनर को भी बरामद किया। आरोपियों की निशानदेही पर मृतक का मोबाइल फोन भी पुलिस ने बरामद कर लिया। दोनों आरोपियो को मंगलवार की दोपहर बाद पुलिस ने सक्षम न्यायालय मे पेश किया। पकडे गये आरोपियो की मंशा अंशू का अपहरण कर उसके व्यापारी पिता से फिरौती की बताई जाती है। इधर मंगलवार को मृतक का शव बरामद होने की जानकारी होने पर लोगों मे आक्रोश फूट पड़ा। परिजनों तथा व्यापारियों ने नेशनल हाइवे पर जाम लगाकर अफसरो को बुलाने की मांग पर अड़ गये। व्यापारियों के आका्रेश की जानकारी होने पर एसडीएम ज्ञानेन्द्र विक्रम सिंह तथा सीओ रामसूरत सोनकर पहुंचे। वहीं स्थिति की नजाकत को देखते हुए सीओ सिटी अभय पाण्डेय भी जिला मुख्यालय से भारी फोर्स लेकर पहुंच गये। वहां मृतक के पिता मदनलाल केसरवानी ने डीएम को संबोधित मांग पत्र मे फिरौती के लिए पुत्र की हत्या को लेकर आर्थिक सहायता व दोषियों के खिलाफ कार्रवाई की मांग रखी। मांग पत्र मे पीड़ित परिवार को पचास लाख के मुआवजे तथा सुरक्षा हेतु शस्त्र लाइसेंस व पीड़ित परिवार के एक सदस्य को नौकरी तथा व्यापारियों की सुरक्षा की भी मांग उठाई गयी है। एसडीएम ने ज्ञापन को डीएम को भेजवाकर समुचित कार्रवाई का भरोसा दिलाया है। इसके बाद व्यापारियों के आक्रोश शांत होने पर नेशनल हाइवे पर यातायात बहाल हो सका। व्यापारियों के नेशनल हाइवे को जाम करने को लेकर बाजार मे भारी फोर्स व पीएसी के साथ लालगंज कोतवाल कमलेश पाल तथा सर्किल के थानों के एसओ मुस्तैद दिखे।