शिव दीपावली

युग जागरण न्यूज़ नेटवर्क


नमन करूँ मैं आपको, काशी भोले नाथ।

शीश झुकाऊँ आज मैं, रख दो सिर पर हाथ।।


दीपों की माला सजी, विश्वनाथ के द्वार।

शोभे शिव दीपावली, दीपक जले हजार।।


त्रयोदशी तिथि का दिवस, मना रहे सब भक्त।

करते मोदी जी यहाँ, शिवजी को आसक्त।।


काशी के मंदिर सभी, लगते प्यारे आज।

घर-घर में दीपक जले, बजते सारे साज।।


आतिशबाजी चल रही, मचा हुआ है शोर।

रोशन देखो हो रहा, काशी का हर छोर।।


गंगा जी के घाट पर, नौका सजी अपार।

जलते दीपक है रखे, चले ईश के द्वार।।


देखो शिव दीपावली, मोदी जी के साथ।

नीलकंठ की हो कृपा, रहे हाथ में हाथ।


रंग-बिरंगे पुष्प की, गूँथी सुंदर माल।

भाव पुष्प अर्पित करें, तिलक लगाएँ भाल।।


गीता देवी

औरैया उत्तर प्रदेश