विशाल स्वास्थ्य शिविर का आयोजन

युग जागरण न्यूज़ नेटवर्क 

सहारनपुर। ग्लोकल स्कूल ऑफ़ फार्मेसी, ग्लोकल यूनिवर्सिटी में साठवाँ राष्ट्रीय फार्मेसी सप्ताह बहुत ही हर्षाेल्लास के साथ मनाया गया। इस अवसर पर ग्लोकल स्कूल ऑफ़ फार्मेसी ने आस पास के गांव मे विशाल स्वास्थ्य शिविर का आयोजन किया गया एवं जनचेतना रैली निकाली। ग्लोकल स्कूल ऑफ़ फार्मेसी ने सांठवे राष्ट्रीय फार्मेसी सप्ताह के उपलक्ष्य मंे प्रश्नोत्तरी, मॉडल प्रस्तुति, रंगोली, पोस्टर एवं भिन्न भिन्न प्रतियागिताओं का आयोजन किया गया। कार्यक्रम का आरम्भ स्कूल ऑफ़ फार्मेसी के सभी विद्यार्थिओं एवं शिक्षक गण ने फार्मासिस्ट की शपथ के साथ किया।

ग्लोकल स्कूल ऑफ़ फार्मेसी के विद्यार्थिओं ने इस अवसर पर विशाल स्वास्थ्य शिविर का आयोजन किया जिसमें उन्होंने ग्रामीणों का निःशुल्क स्वास्थ परिक्षण जैसे ब्लड प्रेशर की जांच, शुगर की जांच आदि की और साथ ही जनचेतना रैली निकाल डेंगू, टाइफाइड आदि संक्रामक रोगो से बचाव के उपाय भी बताये।

कार्यक्रम का शुभरम्भ ग्लोकल यूनिवर्सिटी के कुलपति डॉ.सय्यद अखील अहमद ने द्वीप जलाकर किया। इस अवसर पर उन्होंने स्कूल ऑफ़ फार्मेसी के विधार्थियों को उनके उज्जवल भविष्य के लिए शुभकामनाए दी। मंगलवार को इन कार्यक्रमों का समापन प्रतियागिताओं के विजेता प्रतिभागियों को पुरस्कृत कर के किया गया।

इस अवसर पर ग्लोकल यूनिवर्सिटी के उप कुलपति डॉव सतीश कुमार शर्मा, प्रोफेसर और हेड ऑफ़ डिपार्टमेंट डॉव मोहम्मद आसिफ वं एसोसिएट प्रोफेसर डा. अब्दुल हफीज ने मुख्य वक्ता डॉव मंदीप अरोड़ा एसोसिएट प्रोफेसर, फार्माकोलॉजी विभाग, डीआईटी विश्वविद्यालय, देहरादून का स्वागत किया।

ग्लोकल यूनिवर्सिटी के उप कुलपति डॉक्टर सतीश कुमार शर्मा ने बताया कि कैसे एक छात्र फार्मेसी करने के उपरांत अस्पताल में, अध्ययन में, दवाइयों के आयात और निर्यात में और नई दवाई की शोध में अपना सर्वश्रेष्ठ योगदान दे सकता है।

कार्यक्रम के बीच में ग्लोकल विश्वविधालय के रजिस्ट्रार डॉक्टर एन के गुप्ता ने फार्मासिस्ट स्वास्थ्य देखभाल का अभिन्न अंग हैं पर अपने विचार रखे। 

कार्यक्रम के दौरान मुख्य वक्ता  डॉव मंदीप अरोड़ा, एसोसिएट प्रोफेसर, फार्माकोलॉजी विभाग, डीआईटी विश्वविद्यालय, देहरादून ने फार्मासिस्ट के महत्व पर प्रकाश डाला । उन्होंने यह भी बताया कि कैसे एक फार्मासिस्ट समाज के लिए महत्चपूर्ण है। इस अवसर पर उन्होंने समाज के लिए फार्मासिस्ट के योगदान को सराहा। मुख्य वक्ता डॉव मंदीप अरोड़ा, एसोसिएट प्रोफेसर, फार्माकोलॉजी विभाग, डीआईटी विश्वविद्यालय, देहरादून ने फार्मासिस्टरू स्वास्थ्य देखभाल का अभिन्न अंग हैं पर अपने विचार रखे। 

कार्यक्रम के समापन मे ग्लोकल स्कूल ऑफ़ फार्मेसी के प्रोफेसर और हेड ऑफ़ डिपार्टमेंट डॉव मोहम्मद आसिफ ने मुख्य संयोजक डॉक्टर अब्दुल हफ़ीज़ और उनकी टीम के सदस्य ज़ैद, आसिफ, मोनिश, राजीब दास, फ़िरोज़ और अंकित आदि के साथ सभी अतिथि, संकाय सदस्यों, कर्मचारियों और विद्यार्थियों का कार्यक्रम को सफल बनाने के लिए विनम्रता के साथ धन्यवाद किया।