Ashes Series: डे/नाइट टेस्ट में पलटवार करने की तैयारी में इंग्लैंड

युग जागरण न्यूज़ नेटवर्क  

इंग्लैंड की क्रिकेट टीम ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ 16 दिसंबर से खेले जाने वाले डे/नाइट टेस्ट में पलटवार करने की तैयारी में है। जिसके चलते वह ब्रिस्बेन में खेले गए पहले टेस्ट मैच में मिली हार का बदला ले सके। दोंनों टीमें के दरम्यान यह मुकाबला एडिलेड में खेला जाएगा। सीरीज के पहले मुकाबले में इंग्लिश टीम को कंगारुओं ने नौ विकेट से हराया था। यह मैच इंग्लिश टीम के लिए काफी अहम है। अगर इंग्लैंड दूसरा टेस्ट जीतने में नाकाम रहा तो उसके लिए सीरीज में वापसी करना मुश्किल हो जाएगा। 

इस डे नाइट मुकाबले लेकर चयनकर्ताओं से उम्मीद की जा रही है कि पहले टेस्ट में आराम दिए गए जेम्स एंडरसन और स्टुअर्ट ब्रॉड को मौका देंगे। क्योंकि यह खतरनाक जोड़ी गुलाबी गेंद से ऑस्ट्रेलिया को अधिक नुकसान पहुंचाने का दमखम रखती है। लेकिन अगर दूसरा टेस्ट इंग्लैंड की टीम हार जाती है तो उसे सीरीज में वापसी करना मुश्किल हो जाएगा। एंडरसन दुनिया के पहले तेज गेंदबाज हैं जिन्होंने सबसे ज्यादा टेस्ट विकेट लिए हैं। इसके अलावा उनके साथी ब्रॉड भी पांच सौ से अधिक विकेट ले चुके हैं।  

दोनों देशों के बीच लंबे समय से खेली जा रही एशेज सीरीज के इतिहास को अगर देखा जाए तो सिर्फ एक बार ऐसा हुआ है जब कोई टीम 2-0 से पिछड़ने के बाद वापसी की है। साल 1936-37 में डॉन ब्रेडमैन की कप्तानी वाली टीम में एशेज सीरीज में 2-0 से पिछड़ने के बाद वापसी की थी। 

जहां तक पिंक बॉल टेस्ट की बात है तो अभी तक ऑस्ट्रेलिया का दबदबा कायम है। कंगारू टीम ने अब तक आठ डे/नाइट टेस्ट मैच खेले हैं जिनमें दमदार प्रदर्शन करते हुए सभी में जीत दर्ज की है। उसकी इस शानदार परफॉर्मेंस के देखते हुए इंग्लैंडं की राह आसान नहीं है। साल 2017-18 में खेली गई एशेज सीरीज के एडिलेड टेस्ट में कंगारुओं ने इंग्लैंड को 120 रनों से हराय था। यह सीरीज का दूसरा मुकाबला था जिसके बाद ऑस्ट्रेलिया ने 2-0 की बढ़त हासिल की थी। उसके बाद इस दौरे पर इंग्लिश टीम को एशेज सीरीज में 4-0 से शिकस्त का सामना करना पड़ा था।