॥ भैया दूज ॥

युग जागरण न्यूज़ नेटवर्क 

भैया दूज की आई त्यौहार

चलो रे भाई बहना के  द्वार

यमना बहन ने या भैया को बुलाया

काम धाम की व्यवस्ता से भैया ना आया

बहना तब रूठ कर लगाई गुहार

यमपुरी से छुट्टी ले चले मनाने धर्मराज

भैया को घर देख बहना फूली ना समाई

भाई यमराज को झट चौंका पे बिठाई

माथे पे रौली की टीका भी सजाई

भैया की दीर्घाई की मन्नत भी मनाई

खुश हो भैया ने दिया यमुना को उपहार

जीवन भर सुरक्षा की दे दी सैागात

हर वर्ष बहना के घर आने की करार

इस वर्ष वादा पे बहना के घर लाया प्यार

कार्तिक मास की कृष्णा पक्ष द्वितीया है आज

भूलना नहीं भैया इस दिन की कभी बात

छोड़ सारे काम धाम आ जाना बहना के द्वार

बहना की बलैया पा कर दे जाना उपहार

उदय किशोर साह

मो० पो० जयपुर जिला बाँका बिहार