राहुल द्रविड़ से तुलना करते हुए गौतम गंभीर ने पूर्व हेड कोच शास्त्री को लिया आड़े हाथ

युग जागरण न्यूज़ नेटवर्क 

आईसीसी टी20 वर्ल्ड कप में टीम इंडिया का सफर खत्म होने के साथ हेड कोच रवि शास्त्री का कार्यकाल भी खत्म हो गया था। इसके बाद राहुल द्रविड़ टीम इंडिया के नए हेड कोच बने हैं। राहुल द्रविड़ से तुलना करते हुए गौतम गंभीर ने पूर्व हेड कोच शास्त्री को आड़े हाथ लिया। गंभीर ने बताया कि इन दोनों के बीच सबसे बड़ा फर्क क्या है। शास्त्री के कार्यकाल में टीम इंडिया नंबर-1 टेस्ट टीम बनी। भारत ने ऑस्ट्रेलिया, दक्षिण अफ्रीका और इंग्लैंड में जाकर जीत दर्ज की, लेकिन उनके कार्यकाल में टीम इंडिया के एक भी आईसीसी टूर्नामेंट नहीं जीत पाई।

गौतम गंभीर से जब पूछा गया कि हेड कोच के तौर पर रवि शास्त्री में क्या कमियां थीं, तो उन्होंने टाइम्स नाउ पर कहा, 'एक चीज जो मुझे अजील लगी थी वह यह कि जब आप अच्छा खेलते हो, तो आप खुद की तारीफ नहीं करते हो। यह ठीक है अगर बाकी लोग इसकी बात कर रहे हैं, लेकिन जब हमने 2011 वर्ल्ड कप जीता था, हम में से किसी ने यह बयान नहीं दिया था कि यह दुनिया की बेस्ट टीम है।' उन्होंने आगे कहा, 'जब आप जीतते हैं, तो बाकी लोगों को इसके बारे में बात करने दीजिए। आप ऑस्ट्रेलिया में जीते यह बड़ी बात थी, आप इंग्लैंड में जीते क्योंकि आपने अच्छा प्रदर्शन किया और इसमें किसी को कोई शक नहीं है।'

उन्होंने आगे कहा, 'लेकिन आप दूसरों को अपनी तारीफ करने दीजिए, आप इस तरह की बातें राहुल द्रविड़ के मुंह से नहीं सुनेंगे। भले भारत अच्छा खेले या फिर बुरा। उनके बयान हमेशा बैलेन्स्ड होंगे।' शास्त्री ने 2019 में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ टेस्ट सीरीज जीत को 1983 वर्ल्ड कप से बड़ी जीत कहा था। गंभीर ने कहा, 'विनम्रता बहुत जरूरी होती है, चाहे आप अच्छा खेलें या फिर बुरा। मुझे लगता है कि द्रविड़ का सबसे बड़ा फोकस होगा कि अच्छा खिलाड़ी पहले अच्छा इंसान बने।'