हड्डियों को मजबूत रखने के लिए इन योगासनों का करें अभ्यास

युग जागरण न्यूज़ नेटवर्क

शरीर की संरचना को ठीक रखने के लिए हड्डियों का स्वस्थ होना बहुत आवश्यक माना जाता है। हड्डियों की किसी भी समस्या का असर पूरे शरीर पर देखा जा सकता है, हालांकि स्वास्थ्य विशेषज्ञों के मुताबिक जीवनशैली और आहार में पौष्टिकता की कमी के कारण आज के समय में कम उम्र में ही लोग हड्डियों की कमजोरी के शिकार हो जा रहे हैं। स्वास्थ्य विशेषज्ञों के मुताबिक करीब एक दशक पहले तक माना जाता था हड्डियों की कमजोरी उम्र बढ़ने के साथ होने वाली समस्या है, हालांकि अब बहुत ही कम उम्र के लोगों में भी इस समस्या का निदान किया जा रहा है।

जोड़ों में दर्द, गठिया और हड्डियों की अन्य कई समस्याएं जीवन की गुणवत्ता को प्रभावित कर सकती हैं। स्वास्थ्य विशेषज्ञों के मुताबिक आहार में पोषक तत्वों की मात्रा को बढ़ाने के साथ यदि नियमित रूप से योगसनों को प्रयोग में लाया जाए तो न सिर्फ हड्डियों को स्वस्थ रखा जा सकता है, साथ ही जोड़ों में दर्द और गठिया जैसी समस्याओं को ठीक करने में भी इन्हें फायदेमंद माना जाता है। आइए आगे ऐसे ही कुछ योगासनों के बारे में जानते हैं। 

वीरभद्रसान

स्वास्थ्य विशेषज्ञों के मुताबिक वीरभद्रसान योग का नियमित अभ्यास हड्डियों की अन्य कई समस्याएं को ठीक करने के साथ हड्डियों के घनत्व को बढ़ाने और उन्हें स्वस्थ बनाए रखने में मददगार हो सकती हैं।  

कैसे करें योग- इस योगासन को करने के लिए सबसे पहले अपने पैरों को कूल्हे की चौड़ाई से अलग करके खड़े हो जाएं। अब अपने बायीं ओर एक बड़ा कदम उठाएं। अब अपने घुटनों को 90 डिग्री के कोण पर मोड़ें। अब अपने दाहिने पैर को लगभग 15 डिग्री अंदर की ओर मोड़ें। दाहिने पैर की एड़ी बाएं पैर के केंद्र में होनी चाहिए। अब अपने दोनों हाथों को साइड में उठाएं और कंधों के स्तर पर लाएं। आपकी हथेलियां ऊपर की ओर होनी चाहिए। इस पोजीशन में गहरी सांसें लें। अपने सिर को बाईं ओर मोड़ें। कुछ सेकंड के लिए ऐसे ही रुकें और फिर प्रारंभिक स्थिति में वापस आ जाएं।

वृक्षासन योग

वृक्षासन को ट्री-पोज के नाम से भी जाना जाता है. जो आपकी पीठ, कोर और पैर की मांसपेशियों को मजबूती देता है। शरीर के संतुलन, मुद्रा और स्थिरता में सुधार करने के साथ हड्डियों को मजबूती देने में भी इसे लाभदायक माना जाता है।

कैसे करें योग- इस योगासन के लिए सबसे पहले सीधे खड़े हो जाएं। अब दाहिने पैर को मोड़ते हुए इसे बाएं पैर की जांघ पर रखें। अब गहरी सांस लें और अपनी हथेलियों को सीने के सामने नमस्कार की मुद्रा में लाएं। ध्यान रहे कि इस दौरान आपकी रीढ़ सीधी रहे। इस आसन को दूसरे पैर के साथ भी दोहराएं।

ब्रिज पोज योग

ब्रिज पोज जिसे सेतुबंधासन के नाम से भी जाना जाता है, इसका अभ्यास पीठ, पैर के साथ शरीर की हड्डियों के लिए भी लाभदायक हो सकता है। कमर के दर्द को कम करने के लिए किए जाने वाले इस योगासन को करने से हड्डियों का घनत्व और मजबूती बढ़ती है।

कैसे करें योग-  इस योगासन को करने के लिए पीठ के बल लेट जाएं। अपने पैरों को कंधे की चौड़ाई से थोड़ा अलग करते हुए घुटनों को मोड़ लें। हथेलियों को खोलते हुए हाथ को बिल्कुल सीधा जमीन पर सटा कर रखें। अब सांस लेते हुए कमर के हिस्से को ऊपर की ओर उठाएं, कंधे और सिर को सपाट जमीन पर ही रखें। सांस छोड़ते हुए दोबारा से पूर्ववत स्थिति में आ जाएं।