सहकारिता मंत्री की अध्यक्षता में आयोजित हुई गोष्ठी/कृषक मेला

युग जागरण न्यूज़ नेटवर्क 

बहराइच। राष्ट्रीय कृषि विकास योजनान्तर्गत (उद्यान घटक) अन्तर्गत उद्यान विभाग द्वारा राजकीय औद्यानिक इकाई, गाजीपुर, कैसरगंज में आयोजित गोष्ठी/कृषक मेला में मुख्य अतिथि प्रदेश के सहकारिता मंत्री श्री मुकुट बिहारी वर्मा द्वारा प्रगतिशील कृषक गुलाम मोहम्मद, राम प्रवेश मौर्य, बुधसागर गुप्ता, राम सतीश वर्मा, रामराज वर्मा, राकेश मौर्य, सुनील वर्मा, नरेन्द्र चौधरी, राम फेरन पाण्डेय, अशोक कुमार, राम सेवक वर्मा, चन्द्रमणि मिश्रा, राम विलास, रमेश, ठाकुर प्रसाद मिश्रा, पवन कुमार वर्मा आदि को शाल ओढ़ाकर एवं माल्यापर्ण कर सम्मानित किया गया तथा किसानों में प्याज, शाकभाजी/मसाला बीज के मिनीकिट्स का वितरण भी किया गया।

कार्यक्रम को सम्बोधित करते हुए मुख्य अतिथि श्री वर्मा कहा कि आज बहराइच का केला प्रदेश ही नही पूरे देश में छाया हुआ है। वर्तमान में जनपद का केला प्रदेश के अतिरिक्त दिल्ली, पंजाब, हरियाणा, उत्तराखण्ड, हिंमाचल प्रदेश, जम्मू-कश्मीर व राजस्थान आदि के व्यापारियों की पहली पसन्द बना हुआ है। जो कि जनपद के इतिहास में बड़ी उपलब्धि है। श्री वर्मा ने कहा कि देश के यशस्वी प्रधानमंत्री का सपना है कि हर खेत को पानी पहॅुचे जिसके लिए भारत सरकार व प्रदेश सरकार द्वारा प्रधानमंत्री कृषि सिंचाई योजना संचालित है। जिसमें लघु सीमान्त कृषक को इकाई लागत का 90 प्रतिशत व अन्य कृषकों को 80 प्रतिशत अनुदान देय है।

सहकारिता मंत्री श्री वर्मा ने कहा कि उद्यान विभाग द्वारा राजकीय स्वर्ण जयन्ती पौधशाला, बभनी, रिसिया मोड़, बहराइच में आधुनिक तकनीक से सुसज्जित मिनी सेन्टर ऑफ एक्सीलेन्स संचालित है। जिसमें बैमौसम सब्जी पौध उत्पादन कर किसानो में बिना लाभ-हानि के विक्रय की जा रही है। इसके अतिरिक्त नवीनतम् प्रजाति के आम, अमरूद के पौधे भी उत्पादित किये जा रहे हैं। आज-कल अमरूद की बाजार में बड़ी मॉग है। किसान भाई अमरूद की सघन बागवानी कर अन्य फसलों की तुलना में अधिक आय प्राप्त कर आत्मनिर्भर बन सकते हैं। उन्होंने कहा कि इस वर्ष प्रदेश सरकार द्वारा प्याज की कीमतों पर अंकुश लगाने के उद्देश्य से खरीफ प्याज की खेती उद्यान विभाग द्वारा कराई गयी है। जिसके बहुत ही सकारात्मक परिणाम प्राप्त हो रहें हैं। उन्होंने किसानों का आहवान किया कि जिले के मुख्य केला उत्पादक कृषक गुलाम मोहम्मद से प्रेरणा लेकर आगे बढ़े।

कार्यक्रम को सम्बोधित करते हुए उपनिदेशक उद्यान, देवीपाटन मण्डल, गोण्डा डॉ. डी.के. वर्मा ने किसानों का आहवान किया कि विभागीय योजनाओं का अधिक से अधिक लाभ उठायें। प्रगतिशील कृषक रामफेरन पाण्डेय ने शहद उत्पादन, ठाकुर प्रसाद मिश्रा द्वारा गन्नें में सहफसली शाकभाजी एवं मसाला की खेती, राम प्रवेश मौर्य ने खरीफ प्याज उत्पादन, राम सेवक वर्मा ने प्राकृति/जैविक खेती के सम्बन्ध में किसानों को विस्तार पूर्वक जानकारी प्रदान की। श्री गौरव वर्मा ने कहा कि किसान हमारे अन्नदाता हैं तथा कृषि भारत की अर्थ व्यवस्था की रीढ़ है। उन्होंने किसानों का आहवान किया दूर संचार क्रान्ति का लाभ उठाते हुएघर बैठे ही उपयोगी कृषि सम्बन्धी जानकारी प्राप्त कर अपनी आय में इज़ाफा करें।

उद्याान विभाग के योजना प्रभारी आर.के. वर्मा द्वारा बताया गया कि विभाग द्वारा संचालित मिनी सेन्टर ऑफ एक्सीलेन्स ने नवीनतम् प्रजाति आम-टामी एटकिंग, हुस्नआरा, सेन्शेसन, मल्लिका, याकूती, रामकेला व अमरूद-ताईवान पिंक, वी.एन.आर. ग्वावा, श्वेता एवं धवल के पौधे तैयार किये जा रहे हैं। किसान भाई नवीनतम् प्रजातियों का रोपण कर बागवानी फसलों से अधिक से अधिक लाभ प्राप्त कर सकते हैं। इस अवसर पर सुवेद वर्मा, नीरज श्रीवास्तव, पवन वर्मा, बुधसागर गुप्ता, राम सतीश वर्मा, ग्राम प्रधान कसेहरी बुजुर्ग विनोद कुमार सहित क्षेत्रीय गणमान्य व संभ्रान्तजन तथा बड़ी संख्या में कृषक मौजूद रहे।