बाजार खाला में रिटायर इंस्पेक्टर के घर महिला डॉक्टर की हत्या


युग जागरण न्यूज़ नेटवर्क 

लखनऊ। बाजार खाला थाना क्षेत्र अंतर्गत नई बस्ती भदैवा में रिटायर इंस्पेक्टर के घर में किराए पर रह रही 30 वर्षीय महिला डॉक्टर की उसके पति और अन्य ससुराली जनों ने हत्या कर दी और मृत अवस्था में ससुराली जनों ने उससे बलरामपुर अस्पताल पहुंचाया और फरार हो गए। मृतिका के परिजनों को ससुराली जनों ने सूचना दी कि आपकी बेटी अस्पताल में भर्ती है। मृतिका के पिता ने बाजार खाला कोतवाली में अपने दामाद और उसके अन्य ससुराली जनों के खिलाफ दहेज हत्या का मुकदमा दर्ज कराया है। पुलिस अभी किसी भी आरोपी को गिरफ्तार नहीं कर सकी है शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया गया है। जानकारी के अनुसार नवदिया बुटार शाहजहांपुर के रहने वाले सुरेश चंद्र वर्मा ने 14 फरवरी 2018 को अपनी 28 वर्षीय बेटी शिल्पा वर्मा का विवाह नहाका लखीमपुर के रहने वाले रामचंद्र वर्मा के पुत्र सुभाष चंद्र उर्फ पंकज वर्मा के साथ बड़ी ही धूमधाम से किया था। सुरेश चंद्र वर्मा की बेटी शिल्पा वर्मा बीएएमएस की पढ़ाई पूरी कर चुकी थी। सुरेश चंद्र वर्मा के अनुसार उन्होंने अपनी बेटी की शादी में उसके दहेज में प10 स्पोर्ट कार दी थी और शादी में करीब 30 रुपए का खर्च किया था लेकिन शादी के बाद कुछ दिन में ही शिल्पा का पति और अन्य ससुराली जन और दहेज की मांग पर आमादा हो गए और उनकी बेटी को प्रताड़ित करने लगे। सुरेश चंद्र वर्मा के अनुसार उनकी बेटी लखनऊ में आयुर्वेदिक कॉलेज में एमडी की पढ़ाई कर रही थी और अपने ससुराली जनों के साथ लखनऊ के बाजार खाला थाना क्षेत्र में रिटायर पुलिस इंस्पेक्टर आईडी सिंह के मकान में सुसराली जनों के साथ रह रही थी। सुरेश चंद्र वर्मा ने पुलिस को बताया कि 30 तारीख को उनके दामाद ने उन्हें फोन कर बताया कि उनकी बेटी की तबीयत खराब है और वह बलरामपुर अस्पताल में भर्ती है वह जब बलरामपुर अस्पताल पहुंचे तो उनकी बेटी उन्हें मृत अवस्था में अस्पताल की मोर्चरी में मिली। मृतिका शिल्पा वर्मा के पिता ने अपने दामाद सुभाष चंद्र उर्फ पंकज वर्मा ससुर रामचंद्र वर्मा, सास, ननद और दो नन्दोईयो के खिलाफ उनकी बेटी को दहेज के लिए प्रताड़ित करते हुए अत्यधिक दहेज की मांग पूरी न होने पर हत्या किए जाने का मुकदमा दर्ज करा दिया है। मृतिका के पिता के अनुसार अभी कुछ दिन पूर्व ही उन्होंने ससुराली जनों की मांग पर करीब पौने 4 लाख रुपए दिए थे 1 लाख अपनी बेटी 75 हजार अपने समधी के एकाउंट में ट्रांसफर किए थे 2 लाख रुपए नकद दिए थे लेकिन बावजूद इसके दहेज लोभी पति और उसके परिवार वालों ने उनकी बेटी की दहेज के लिए निर्मम हत्या कर दी । इंस्पेक्टर बाजार खाला बृजेश कुमार सिंह का कहना है कि मृतका की डेढ़ साल की एक बेटी भी है और हत्या आरोपी पति सुभाष चंद्र उर्फ पंकज शिक्षक है पढ़े लिखे परिवार से ताल्लुक रखने वाले सर्व संपन्न परिवार के लोग जब अत्यधिक दहेज की मांग पूरी न होने पर हत्या जैसी घटना को कारित करने में भी पीछे न रहे तो समझो कि दहेज किसी कुरीति से कम नहीं है। इंस्पेक्टर बाजार खाला के अनुसार मुकदमा दर्ज कर लिया गया है और आरोपियों की तलाश की जा रही है। यहां इस दहेज हत्या की घटना में यह भी महत्वपूर्ण है कि दहेज के लिए नव विवाहिता की हत्या करने वाले एक रिटायर पुलिस इंस्पेक्टर के घर में किराए पर रहते थे फिर भी उन्हें न कानून का डर था और ना ही समाज की चिंता थी।