Navratri 2021: जानिए, दुर्गा मां के अलग-अलग स्वरूपों को कौन सा फूल चढ़ाएं

युग जागरण न्यूज़ नेटवर्क

नवरात्रि के पावन दिनों में देवी दुर्गा के नौ रूपों की पूजा व व्रत किया जाता है। मान्यता है कि इससे देवी मां की असीम कृपा मिलती है। घर-परिवार में सुख-समृद्धि, खुशहाली व शांति का वास होता है। इस दौरान लोग देवी मां को अलग-अलग भोग व फूल भी चढ़ाते हैं। मगर इन शुभ दिनों पर माता रानी को उनके प्रिय फूल चढ़ाने से शुभफल की प्राप्ति होती है। चलिए जानते हैं दुर्गा मां के अलग-अलग स्वरूपों को कौन सा फूल चढ़ाना चाहिए...

नवरात्रि पहला दिन

नवरात्रि के पहले दिन मां दुर्गा के शैलपुत्री स्वरूप की पूजा होती है। देवी मां को सफेद कनेर और गुड़हल के लाल फूल अतिप्रिय है। इसलिए नवरात्रि के पहले दिन देवी मां को ये फूल चढ़ाएं।

नवरात्रि दूसरे दिन

नवरात्रि के दूसरे दिन देवी मां के ब्रह्मचारिणी स्वरूप की पूजा होती है। मां ब्रह्मचारिणी को गुलदाउदी और वटवृक्ष के फूल बेहद पसंद हैं। इसलिए आप भी देवी मां की कृपा पाने के लिए उनके चरणों में इन फूलों को चढ़ाएं। ऐसा करने से आपके घर में सुख-समृद्धि व खुशहाली का वास होगा।

नवरात्रि तीसरे दिन

नवरात्रि का तीसरा दिन मां चंद्रघंटा को समर्पित होता है।‌‌ देवी दुर्गा के इस स्वरूप को कमल व शंखपुष्पी फूल बेहद प्यार है। इसलिए उन्हें इस नवरात्रि ये फूल जरूर चढ़ाएं। मान्यता है कि ऐसा करने से जीवन में सफलता के रास्ते खुलते ही।

नवरात्रि चौथा दिन

नवरात्रि के चौथे दिन देवी मां के कुष्मांडा स्वरूप की पूजा होती है। कुष्मांडा देवी माता को पीले रंग व चमेली के फूल अतिप्रिय है। मान्यता है कि ये फूल देवी मां को चढ़ाने से अच्छी सेहत का आशीर्वाद प्राप्त होता है। इसलिए माता रानी की कृपा पाने के लिए उन्हें ये फूल चढ़ाएं।

नवरात्रि पांचवां दिन

नवरात्रि का पांचवा़ं दिन मां दुर्गा के स्कंदमाता स्वरूप को समर्पित होता है।‌‌ देवी मां के इस रूप को पीले रंग के फूल काफी पसंद हैं। उन्हें पीले फूल अर्पित करने से सुख-संपन्नता का आशीर्वाद मिलता है।

नवरात्रि छठवां दिन

नवरात्रि के छठे दिन दुर्गा माता के कात्यायनी रूप की पूजा होती है। देवी मां के इस स्वरूप को गेंदे और बेर के पेड़ का फूल अतिप्रिय है। इसलिए नवरात्रि में मां का आशीर्वाद प्राप्त के लिए उन्हें ये फूल जरूर चढ़ाएं।

नवरात्रि सातवां दिन

नवरात्रि का सातवां दिन मां दुर्गा के कालरात्रि स्वरूप को समर्पित होता है। देवी कात्यायनी को नीले रंग का कृष्ण कमल अतिप्रिय है। ऐसे में आप देवी मां आशीर्वाद पाने के लिए उन्हें यह फूल जरूर चढ़ाएं। अगर ये फूल न मिले तो देवी मां कृपा पाने के लिए उन्हें कोई नीला फूल अर्पित करें।

नवरात्रि आठवां दिन

नवरात्रि के पावन दिनों में आठवां नवरात्रा मां के महागौरी स्वरूप की पूजा होती है। देवी दुर्गा के इस रूप को मोगरे के फूल अतिप्रिय है। इसलिए आप घर-परिवार पर माता रानी की कृपा पाने के लिए उन्हें मोगरे के फूल चढ़ाएं।

नवरात्रि नौवां दिन

नवरात्रि का नौवां दिन मां दुर्गा के सिद्धिदात्री स्वरूप को समर्पित होता है। देवी मां को गुड़हल व चंपा के फूल अतिप्रिय है। इसलिए आप मां को प्रसन्न करने के लिए उन्हें ये फूल चढ़ाएं।