आपके घर तो नहीं ये समस्याएं, ऐसे दूर करें वास्तुदोष

युग जागरण न्यूज़ नेटवर्क 

वास्तु अनुसार में घर की दिशाओं का विशेष महत्व है। माना जाता है कि इनका हमारी जिंदगी में अच्छा व बुरा प्रभाव पड़ता है। ऐसे में बहुत से लोग नया घर खरीदते व बनवाते समय वास्तु के नियमों का खास ध्यान रखते हैं। मगर कई लोगों के घर में वास्तुदोष होने से उन्हें कई समस्याओं का सामना करना पड़ता है। ऐसे में आप घर में कुछ बदलाव लाकर वास्तुदोष दूर कर सकती है। इससे आपके जीवन की समस्याएं दूर होकर सुख-समृद्धि व खुशहाली का संचार होगा।

आर्थिक समस्या का कारण बनता है इस दिशा का दरवाजा

वास्तु अनुसार घर पर उत्तर-पूर्व व उत्तर दिशा में दरवाजे होने चाहिए। इससे आर्थिक स्थिति मजबूत होती है। इसके साथ ही उत्तर-पश्चिम दिशा में दरवाजे बनवाने से बचना चाहिए। अगर आपके घर की इस दिशा पर दरवाजे हैं तो उन्हें इस्तेमाल करने से बचें। नहीं तो इससे आपको आर्थिक नुकसान झेलना पड़ सकता है।

सभी की सेहत रहेगी बरकरार

घर पर पौधे लगाना शुभ माना जाता है। इससे घर में सकारात्मक ऊर्जा का संचार होता है। इसके साथ ही घर के सभी सदस्यों की सेहत बरकरार रहती है। ऐसे में आप भी अपने घर पर पौधे जरूर लगाएं। वास्तु अनुसार घर के दक्षिण भाग में भारी गमले और बड़े पौधे और उत्तर व उत्तर-पूर्व में हल्के व छोटे पौधे लगाने चाहिए।

वैवाहिक जिंदगी में प्यार व मजबूती बढ़ाने के लिए

हर कोई घर में एक स्टोर भी जरूर बनवाते हैं। वास्तु अनुसार स्टोर रूम हमेशा घर की दक्षिण-पश्चिम में होना चाहिए। इसके साथ ही इस बात का ध्यान रखें कि स्टोर का दरवाजा कभी भी बेडरूम की ओर नहीं खुलें। इसका दरवाजा हमेशा बाहर की तरफ होना चाहिए। इससे वैवाहिक जीवन में मिठास बनी रहती है। मैरिड लाइफ में किसी भी तरह की कोई परेशानी नहीं आती है।

करियर में तरक्की पाने के लिए

घर का ईशान कोण पूरी तरह से बंद व सामान से भरा होना करियर में रूकावट डालने का काम करता है। ऐसे में इस दिशा को हल्का व खुला रखना चाहिए। अगर संभव हो पाए तो इस दिशा पर धन की देवी लक्ष्मी और प्रथम पूजनीय गणेश जी की प्रतिमा स्थापित करें। साथ ही रोजाना इनकी पूजा करें। वास्तु अनुसार इससे नौकरी व कारोबार से जुड़ी परेशानियां दूर होती है।

इस दिशा में शीशे व बेड रखना सही

घर की उत्तर-पूर्व, उत्तर या पूर्व में ही शीशे व घड़ियां लगाएं। इसके साथ ही बेडरूम में बेड भी हमेशा दक्षिण, पश्चिम या फिर पूर्व में ही रखें। इसके साथ ही इस बात का ध्यान रखें कि बेड के एकदम पीछे कोई शीशा ना हो।