विकास योजनाओं का जायज़ा लेने के उद्देश्य से सीडीओ ने किया पयागपुर क्षेत्र का भ्रमण

युग जागरण न्यूज़ नेटवर्क

बहराइच 28 अक्टूबर। मुख्य विकास अधिकारी कविता मीना ने पयागपुर क्षेत्र का भ्रमण कर खण्ड विकास अधिकारी पयागपुर के कार्यालय, तहसील पयागपुर के आवासीय भवन, ग्राम पंचायत फरदा सुमेरपुर के प्राथमिक विद्यालय, कोविड-19 टीकाकरण शिविर, सामुदायिक शौचालय तथा मनरेगा योजना के तहत ऑनगोईंग कार्यो का निरीक्षण कर मौके पर मौजूद अधिकारियों को आवश्यक दिशा निर्देश दिये गये।

ब्लाक कार्यालय पयागपुर के निरीक्षण के दौरान सीडीओ ने सभी कक्षों एव पटलों का अवलोकन करते हुए कार्यरत स्टाफ से पटल सम्बन्धी अभिलेखों इत्यादि के बारे में आवश्यक जानकारी प्राप्त की गयी। शिकायत पंजिका के अवलोकन करने पर पाया गया कि विभिन्न स्तरों से प्राप्त होने वाली शिकायतों हेतु मात्र एक पंजिका बनायी गयी है। संकलित पंजिका में शिकायतों के निस्तारण का विवरण भी दर्ज नहीं पाया गया। इस स्थिति का कड़ा संज्ञान लेते हुण् बीडीओ को निर्देश दिया गया सम्बन्धित लिपिक के विरूद्ध अनुशासनिक कार्यवाही का प्रस्ताव डीडीओ को प्रेषित करें। स्वच्छ भारत मिशन ग्रामीण फेज-2 की समीक्षा में पाया गया कि गत माह तक 892 शौचालयों के निर्माण हेतु धनराशि निर्गत की गयी है। जिसके सापेक्ष्ज्ञ अब तक 90 पूर्ण, 112 निर्माणाधीन तथा 690 अनारम्भ है। जबकि सी.एस.सी. अन्तर्गत 69 शौचालयों की जियो टैग की फोटो कापी उपलब्ध न करा पाने के कारण ए.डी.ओ. (पं.) को कारण बताओ नोटिस जारी करने के निर्देश दिये गये।

ब्लाक अन्तर्गत निर्मित होने वाले 09 पंचायत भवनों के सापेक्ष 01-01 मा. न्यायालय के स्थगन आदेश तथा भूमि विवाद के कारण कार्य बन्द है। जबकि मनरेगा अन्तर्गत 05 लाख अतिनिर्धन परिवारों की आजीविका के लिए निर्धारित लक्ष्य 497 के सापेक्ष 146 सत्यापन प्रकिया में, 76 स्वीकृत हुए है एवं 55 की आई.डी. जनरेट हुई है। बीडीओ को निर्देश दिया गया कि भूमि विवाद का निस्तारण कराकर पंचायत भवनो का कार्य प्रारम्भ करायें तथा मनरेगा योजना के तहत अधिकाधिक लोगों को लाभान्वित कराना सुनिश्चित करें। महात्मा गॉधी राष्ट्रीय ग्रामीण रोजगार गारंटी योजना की समीक्षा में पाया गया कि 1427 परियोजनाओं के सापेक्ष 23 पूर्ण हुई हैं। इस स्थिति पर कड़ी नाराज़गी व्यक्त करते हुए बीडीओ को निर्देश दिया गया कि प्रगति की नियमित समीक्षा करते रहे तथा माह नवम्बर 2021 तक सभी परियोजनाओं को पूर्ण करायें। पॉचवा वित्त आयोग तथा पन्द्रहवॉ वित्त आयोग (क्षे.पं.अंश) के सापेक्ष उपलब्ध धनराशि के सापेक्ष व्यय शून्य पाये जाने पर नियमानुसार वित्तीय प्रगति में सुधार लाये जाने का निर्देश दिया गया।

पी.एम. आवास योजना ग्रामीण की समीक्षा में पाया गया कि लक्ष्य 1202 के सापेक्ष 1071 को द्वितीय किश्त अवमुक्त कर दी गयी है। जबकि 168 आवास पूर्ण हैं। बीडीओ को निर्देश दिया गया कि अवशेष किश्त अवमुक्त कर आवासों को पूर्ण करायें। राष्ट्रीय ग्रामीण आजीविका मिशन अन्तर्गत लक्ष्य 245 के सापेक्ष 140 समूहों के गठन पर एक माह के अन्दर लक्ष्य को पूर्ण करने का निर्देश दिया गया। रेन वाटर हावेस्टिग का त्रुटिपूर्ण डी.पी.आर. तैयार करने पर सीडीओ ने अवर अभि. लघु सिंचाई के प्रति नाराज़गी व्यक्त करते हुए बीडीओ को निर्देश दिया कि अवर अभि. के कार्यों का पर्यवेक्षण करते रहें। ब्लाक पर हैण्डपम्पों की शिकायत व मरम्मत पंजिका न बनाये जाने पर निर्देश दिया गया कि तत्काल पंजिका तैयार कर अवगत कराया जाय।  

तहसील पयागपुर के आवासीय भवन के निरीक्षण के दौरान टाईप-1 आवास के प्लास्टर का कार्य चल रहा था। बताया गया कि प्लास्टर हेतु 1ः2ः4 का मिश्रण बनाया गया है। तकनीकी टीम के सदस्यों ने बताया कि मिश्रण सही है। कार्यदायी संस्था यू.पी.आर.एन.एस.एस. सहा. अभियन्ता को निर्देश दिया गया कि प्लास्टर के उपरान्त निर्धारित अवधि तक पानी की तराई अवश्य करायें। टाईप-2 आवासों के निरीक्षण के दौरान 02 कमरों एवं किचेन की नाप निर्धारित मानक के अनुसार पायी गयी। दीवारों पर कहीं-कहीं प्लास्टर क्षतिग्रसत हुआ है जिसे ठीक कराये जाने के निर्देश दिये गये।

प्राथमिक विद्यालय फरदा सुमेरपुर में कोविड-19 टीकाकरण हेतु आयोजित कैम्प के निरीक्षण के दौरान प्रभारी चिकित्साधिकारी पयागपुर द्वारा बताया गया कि इस केन्द्र पर 18 वर्ष के उपर के सभी व्यक्तियों का टीकाकरण करा दिया गया है किन्तु प्रथम डोज एवं द्वितीय डोज की मात्रा की जानकारी उनके द्वारा नहीं दी जा सकी। प्राथमिक विद्यालय मे संचालित ऑगनवाडी केन्द्र के निरीक्षण के समय बच्चे उपस्थित थे। यहॉ पर ग्राम प्रधान एवं सचिव को कमरे की दीवाल की मरम्मत कराये जाने के निर्देश दिये गये। तौल मशीन दुरूस्त पायी गयी। बच्चों के ज्ञान की क्षमता का परीक्षण करने पर साहिल द्वारा कविता सुनायी गयी।

ग्राम पंचायत में निर्मित सामुदायिक शौचालय रघुनाथ स्वयं सहायता समूह को हस्तान्तरित किया गया है। निरीक्षण के समय संचालनकर्ता लता मंगेश्कर मौके पर मौजूद थी। बीडीओ को निर्देश दिया गया कि यहॉ पर उपयोग करने वाले लोगों की पंजिका रखवायें तथा आवश्यक मरम्मत भी करा दें। मनरेगा अन्तर्गत ग्राम पंचायत सुमेरपुर में बनियनपुरवा गॉव से लल्लू के खेत तक भूमि विकास/चकरोड उच्चीकरण के कार्य का निरीक्षण करने पर पाया गया कि मिट्टी एक ही तरफ से निकाली जा रही है। जबकि चकमार्ग पूर्व से ही काफी ऊंचा है फिर भी उस पर मिट्टी की पटाई करायी जा रही है जिसका कोई औचित्य नही है। इस सम्बन्ध में सम्बन्धित को अलग से पत्र जारी किया जा रहा है।