अंहकार


युग जागरण न्यूज़ नेटवर्क

   ये ऊंचे महल दुमहले,

   कुछ तेरे साथ न जाए रे ।

   माटी का सब ,यही धरा रह जाए रे ।

   अहंकार किस चीज का मानव

    क्यों करे गुमान रे।

    सुंदर सुंदर काया तेरी,

     जवानी में चार चांद लगाए ।

     अनेक- अनेक उपमाओ से सजाएं,

     बुढ़ापे में कोई बात ना पूछे,

     यूं ही पड़ा रह जाए रे ।

     माटी का सब

     यही धरा रह जाए रे ।

      बहुत कमाया था धन तूने ,

      झूठ -पाप और छल -कपट से।

      उस धन का  अहंकार करे क्यों ?

      वह ना साथ जा पाएं रे।

      क्यों करे गुमान रे

      लंका का राजा रावण,

      सोने की थी लंका सारी।

      सिकंदर जिसने की दुनिया फतेह ,

      अहंकार किया उसने भारी।

       मैं कर सकता सब कुछ ,

       मेरे बस में दुनिया सारी ।

       नहीं ले गया एक छदाम ,

       कोड़ी गई ना साथ रे भाई ।

       क्यों करे गुमान रे

       फिर मानव अहंकार किसका , 

       ना कुछ लेकर आया ,

       ना कुछ लेकर जाएगा ।

       अहंकारी मानव तेरा,

       अंहकार है विनाश तेरा।

       पवित्र सोच मन  मे ले आ,

       जाग जा मानव तू आज ।

        मत कर तू अंहकार ,

        ए बंदे झूठी तेरी शान।

       काहे करे गुमान रे।।

                 रचनाकार ✍️

                 मधु अरोरा