67वें राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कार में कंगना रनौत और रजनीकांत समेत इन दिग्गजों को मिला खास सम्मान

 

युग जागरण न्यूज़ नेटवर्क 

आज का दिन कुछ बॉलीवुड सितारों के लिए बेहद ही खास रहा। दरअसल, सोमवार को 67वें राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कार का आयोजन विज्ञान भवन में किया गया। विजेताओं को उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू ने स्वर्ण कमल और रजत कमल, शॉल और ईनाम की राशि देकर सम्मानित किया। मनोज बाजपेयी, कंगना रणौत और धनुष को बेहतरीन एक्टिंग के लिए सम्मानित किया गया। छिछोरे को सर्वश्रेष्ठ हिंदी फिल्म का पुरस्कार मिला। सुशांत सिंह राजपूत की फिल्म छिछोरे के निर्देशक नितेश तिवारी को सम्मानित किया गया। कार्यक्रम में उपराष्ट्रपति एम. वेकैया नायडू ने सुपरस्टार रजनीकांत को दादा साहेब फाल्के अवॉर्ड देकर सम्मानित किया और सिंगर बी. प्राक और सवानी रविंद्र को बेस्ट प्लेबैक सिंगर के अवॉर्ड से नवाजा गया है। साथ ही एक्टर मनोज बाजपेयी को बेस्ट एक्टर का अवॉर्ड दिया गया है। इस नेशनल अवॉर्ड की घोषणा इस साल 22 मार्च को की गई थी।हिंदी सिनेमा कैटेगरी में इस बार साल 2019 में रिलीज हुई दिवंगत एक्टर सुशांत सिंह राजपूत की फिल्म छिछोरे को बेस्ट हिंदी फिल्म के पुरस्कार से पुरस्कृत किया है। फिल्म में मेन्टल हेल्थ जैसे सीरियस इशू पर बात की गई है। साथ ही एक्ट्रेस कंगना रनौत को एक बार फिर से 25 जनवरी 2019 में रिलीज हुई फिल्म मणिकर्णिका और 24 जनवरी 2020 में आई पंगा के लिए बेस्ट एक्ट्रेस के अवॉर्ड से नवाजा गया है। वही साउथ के सुपरस्टार रजनीकांत को दादा साहब फाल्के पुरस्कार से सम्मानित किया जाना है। साथ ही एक्टर अक्षय कुमार की फिल्म श्केसरीश् के सुपरहिट सॉन्ग तेरी मिट्टी के लिए बेस्ट मेल प्लेबैक सिंगर का अवॉर्ड गायक बी प्राक को सम्मानित किया गया है। साथ ही बेस्ट फिमेल प्ले बैक सिंगर का अवॉर्ड शिवानी रविंद्र को मिला है। बात दें कि मनोज बाजपेयी और साउथ के सुपरस्टार धनुष को संयुक्त रूप से बेस्ट एक्टर के अवॉर्ड से नवाजा गया है।