भारत की क्षमता पर उठाए गए हर सवाल का जवाब 100 करोड़ वैक्सीनेशन

युग जागरण न्यूज़ नेटवर्क  

नई दिल्ली। भारत की क्षमता पर सवाल उठाने वालों के लिए 100 करोड़ टीकाकरण सटीक जवाब है। देश ने 21 अक्टूबर 2021 को 100 करोड़ वैक्सीनेशन का अपना लक्ष्य पूरा कर इतिहास रच दिया है। 100 वैक्सीनेशन के रिकार्ड को पूरा होने के एक दिन बाद आज प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देश को संबोधित किया। अपने संबोधन में उन्होंने साफ कहा,' कोरोना टीकाकरण को लेकर भारत की क्षमता पर उठाए गए हर सवाल का जवाब 100 करोड़ वैक्सीनेशन है।' पीएम ने कहा कि कोरोना वायरस से निपटने की क्षमता पर बहुत सारी आशंकाएं थीं, लेकिन 100 करोड़ वैक्सीन की खुराक हर सवाल का जवाब है।'

पीएम मोदी ने संबोधित करते हुए कहा,'भारत के लोगों को वैक्सीन मिलेगी या नहीं? क्या भारत महामारी को फैलने से रोकने के लिए पर्याप्त लोगों का टीकाकरण कर पाएगा? कई सवाल थे, लेकिन आज यह 100 करोड़ वैक्सीन की खुराक हर सवाल का जवाब दे रही है।' आगे पीएम ने कहा,'जब 100 साल की सबसे बड़ी महामारी आई, तो भारत पर सवाल उठने लगे। क्या भारत इस वैश्विक महामारी से लड़ पाएगा? भारत को दूसरे देशों से इतने सारे टीके खरीदने के लिए पैसा कहां से मिलेगा? भारत को वैक्सीन कब मिलेगी?। प्रधानमंत्री ने कहा कि ऐसे लोगों ने कई स्तरों पर ऐसी आशंकाओं की ओर इशारा किया था कि भारत जैसे लोकतंत्र में इस महामारी से लड़ना बहुत मुश्किल होगा।

पीएम ने कहा, 'भारत के लोगों के लिए यह भी कहा जा रहा था कि यहां इतना संयम, इतना अनुशासन कैसे काम करेगा? लेकिन हमारे लिए लोकतंत्र का मतलब सभी का सहयोग है।' बता दें कि आज पीएम ने अपने संबोधन में 100 वैक्सीनेशन के लिए देश के प्रत्येक नागरिक की सफलता बताया। पीएम ने कहा, कल भारत ने 100 करोड़ वैक्सीन खुराक का कठिन लेकिन असाधारण लक्ष्य हासिल किया। आज कई लोग भारत के टीकाकरण कार्यक्रम की तुलना दुनिया के अन्य देशों से कर रहे हैं।' पीएम ने आगे कहा कि भारत ने जिस रफ्तार से 100 करोड़ का आंकड़ा पार किया है उसकी भी तारीफ हो रही है, लेकिन हम अक्सर यह भूल जाते हैं कि हमने इसकी शुरुआत कहां से की।