मण्डलायुक्त के भ्रमण के दौरान घूमते मिले बच्चों का विद्यालय में नामांकन

युग जागरण न्यूज़ नेटवर्क

कोई भी बच्चा शिक्षा और  सरकार की योजनाओं से वंचित न रहें 

सहारनपुर। मण्डलायुक्त लोकेश एम0 ने अधिकारियों को निर्देश दिए है कि मलिन बस्तियों, झुग्गी, झोपडियों तथा भट्टों पर रहने वाले बच्चों को चिन्हित कर तत्काल उनका विद्यालयों और आगंनबाडी केन्द्रों पर नामांकन किया जाना सुनिश्चित कराए। उन्होंने कहा कि कोई भी बच्चा अनावश्यक घूमते हुए न पाया जाए। उन्होंने आम जनता का भी आह्वान किया कि यदि बच्चे शिक्षा से वंचित है और सड़कों और गलियों में अनावश्यक रूप से घूमते मिलते है तो उनकी सूचना मण्डलायुक्त तथा संबंधित जनपद के जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी या जिला कार्यक्रम अधिकारी को दें। मण्डलायुक्त की पहल पर आज खलासी लाइन स्थित कस्तूरबा गांधी बालिका आवासीय विद्यालय में रेलवे फाटक के पास कुष्ट रोगियों की मलिन बस्ती में रहने वाले 62 बच्चों का विद्यालय में नामांकन कराया गया।

लोकेश एम0 ने आज 62 बच्चों का नामांकन कराने के बाद यहां यह जानकारी दी। मण्डलायुक्त के 25 अगस्त को शहर के औचक निरीक्षण के दौरान उन्हे कूडे के ढेर में बच्चे खेलते मिले थे। जिस पर उन्होंने कडी नाराजगी व्यक्त करते हुए तत्काल जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी तथा जिला कार्यक्रम अधिकारी को संबंधित क्षेत्र का सर्वे कर सभी बच्चों को आंगनबाडी केन्द्रों तथा प्राथमिक विद्यालय में प्रवेश दिलाने के निर्देश दिए थे। मण्डलायुक्त के आदेशों के अनुपालन में आज 6 वर्ष से ऊपर के 36 बच्चों को उच्च प्राथमिक विद्यालय खलासी लाईन में प्रवेश कराकर यूनिफार्म, जूते, मौजे, पाठ्य पुस्तक, स्कूल बैग आदि वितरित किए गए। उन्होने 03 से 06 वर्ष तक के 26 बच्चों को कस्तूरबा गांधी बालिका आवासीय विद्यालय स्थित आंगनबाडी केन्द्र में प्रवेश दिलाया तथा बच्चों को केले, टाफी, बिस्किट, खाना आदि वितरित किये और बच्चों से जानकारी भी हासिल की। उन्होंने मण्डल के तीनों जनपदों के बेसिक शिक्षा अधिकारी तथा जिला कार्यक्रम अधिकारी को निर्देश दिए कि क्षेत्र भ्रमण के दौरान यह भी सुनिश्चित किया जाए कि कोई बच्चा शिक्षा तथा सरकार की योजनाओं से वंचित न रहे। उन्होने कहा कि बच्चों को शिक्षित कर समाज की मुख्य धारा से जोडा जाए। 

मण्डलायुक्त ने यह भी निर्देश दिए दिए कि बस्तियों, झुग्गी, झोपडियों तथा भट्टों पर रहने वाले बच्चों का अधिकारी समयबद्ध सर्वे करायें। बना नामांकन वाले बच्चों को चिन्हित कर तत्काल उनका आंगनवाड़ी केन्द्रों और विद्यालय में नामांकन कराया जाना सुनिश्चित करें। उन्होंने कहा कि बच्चों को मिलने वाली ड्रेस और पाठ्य पुस्तक आदि भी उपलब्ध कराई जाए। उन्होने अधिकारियों को निर्देश दिए कि प्रतिदिन प्रत्येक बच्चे को आंगनबाडी तथा प्राथमिक विद्यालय में लाना सुनिश्चित करें। किसी भी बच्चे की एक भी दिन की पढाई नहीं छूटनी चाहिए। उन्होने कहा कि जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी तथा जिला कार्यक्रम अधिकारी पढाई के साथ-साथ सरकार की अन्य योजनाओं से भी बच्चों को आच्छादित करना सुनिश्चित करें। 

इस अवसर पर नगर आयुक्त श्री ज्ञानेन्द्र सिंह, जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी श्री अम्बरीश कुमार, जिला कार्यक्रम अधिकारी श्रीमती आशा त्रिपाठी तथा संबंधित अधिकारी उपस्थित रहे।