डीएम की अध्यक्षता में सम्पन्न हुई ज़िला पोषण समिति की बैठक सम्पन्न

युग जागरण न्यूज़ नेटवर्क

बहराइच । जिलाधिकारी डॉ. दिनेश चन्द्र की अध्यक्षता में शुक्रवार को देर शाम जिला पोषण समिति/कन्वर्जन्स समिति की बैठक सम्पन्न हुई। बैठक में मुख्य विकास अधिकारी कविता मीना, मुख्य चिकित्साधिकारी डॉ. एस.के. सिंह, मुख्य चिकित्साधीक्षक डा. ओ.पी. पाण्डेय, मुख्य पशु चिकित्साधिकारी डा. बलवन्त सिंह, जिला कृषि अधिकारी सतीश कुमार पाण्डेय, जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी अजय कुमार, जिला कार्यक्रम अधिकारी जी.डी. यादव, राजस्व गॉव गोद लेने वाले सम्बन्धित अधिकारी, प्रभारी चिकित्साधिकारी, समस्त बाल विकास परियोजना अधिकारी, डी.टी.एम., पीरामल स्वास्थ्य, जिला विशेषज्ञ कम्यूनिटी आउटरीच यू.पी.टी.एस.यू. आदि उपस्थित रहे।

बैठक के दौरान सुपोषित गॉव की समीक्षा के दौरान जिला कार्यक्रम अधिकारी ने बताया कि 42 जिलास्तरीय अधिकारियो को 84 गांव गोद दिये गये हैं। जिनमें 0-5 वर्ष के कुल बच्चे 16761, लाल श्रेणी के 560, पीली श्रेणी के 2259, सैम श्रेणी के 129, मैम श्रेणी के 261 बच्चे हैं। उन्होंने बताया कि माह सितम्बर 2021 में सभी जिलास्तरीय अधिकारियो ने गोद लिए गांवों का शत् प्रतिशत निरीक्षण कर आख्या भी उपलब्ध कराई गयी है। जिसके अनुसार लाल श्रेणी के 396, पीली श्रेणी के 1486, सैम श्रेणी के 75 तथा मैम श्रेणी के 130 बच्चे हैं। आख्या के अनुसार के लाल श्रेणी के 124, पीली श्रेणी के 464, सैम श्रेणी के 50 तथा मैम श्रेणी के 76 बच्चे सुधरीकृत हुए है। जिलाधिकारी ने निर्देश दिया कि ऐसे गॉव जहॉ पिछले माह में अपेक्षित सुधार नहीं हुआ है वहॉ पर प्रयास कर सुधार लायें।

ऑगनबाड़ी केन्द्रों पर ड्राई राशन वितरण कार्य की समीक्षा के दौरान जिलाधिकारी द्वारा निर्देश दिये गये कि नियमानुसार शत्-प्रतिशत राशन (गेहूॅ, चावल, फोर्टिफाईड ऑयल, दाल) का वितरण लाभार्थियों में कराना सुनिश्चित करे तथा जिन लाभार्थियों को राशन वितरण के समय उपलब्ध नहीं हो पा रहा है उन्हें आगामी वितरण के समय अनिवार्य रूप से राशन उपलबध कराया जाए। डीपीओ द्वारा बताया गया कि ऑगनबाड़ी केन्द्रों पर 200 फण्डेड व 484 नान फण्डेड कुल 684 पोषण वाटिका तैयार की गयीं हैं। डीएम ने निर्देश दिया कि समस्त सीडीपीओ पालक, मेंथी, आदि आयरन युक्त पोषण वाटिका शत-प्रतिशत पूर्ण कराना सुनिश्चित करें तथा पोषण वाटिका के जियो टैग फोटोग्राफ भी प्राप्त किये जायें।

जिला पोषण पुनर्वास केन्द्र/मुख्यमंत्री सुपोषण घरों के माध्यम से संचालित गतिविधियों की जानकारी देते हुए डीपीओ ने बताया कि जिला पोषण पुनर्वास केन्द्र बहराइच में माह सितम्बर 2021 में 31 बच्चे भर्ती कराये गये है तथा ब्लाक स्तर पर संचालित 14 मुख्यमंत्री सुपोषण घरों में माह में 659 बच्चे भर्ती/उपचारित कराये गये है। डीएम ने निर्देश दिया कि मुख्यमंत्री सुपोषण घर में भर्ती होने वाले बच्चों की शासन की मंशानुरूप देख-रेक्ष सुनिश्चित की जाय। उन्होंने सीडीपीओ को निर्देश दिया कि आगामी बैठक में जिला पोषण पुनर्वास केन्द्र में भर्ती बच्चों से सम्बन्धित पंजिका अवलोकनार्थ प्रस्तुत करें।

डीपीओ श्री यादव ने बताया कि अब तक 576 अतिकुपोषित बच्चों के परिवारों को गाय का वितरण कराया जा चुका है तथा 398 गायों का सत्यापन कराकर सी.वी.ओ. कार्यालय को पत्रावली जियो टैग फोटोग्राफ सहित गाय पालन पोषण की धनराशि हस्तान्तरण हेतु भेजी गई है। जिसके सापेक्ष 227 लाभार्थियो के खाते मे धनराशि हस्तान्तरित की जा चुकी है। जिलाधिकारी ने निर्देश दिया कि 03 दिवस के अन्दर गाय वितरण बढ़ाते हुए सी.वी.ओ. से समन्वय कर  अवशेष गाय पालन के लाभार्थियों को अतिशीघ्र भुगतान पूर्ण करायें।

जिलाधिकारी डॉ. चन्द्र ने सीडीपीओं को निर्देश दिया कि सभी ऑगनबाड़ी कार्यकत्रियॉ वी.एच.एस.एन.डी. सत्र पर अनिवार्य रूप से वज़न मशीन लेकर आयें। आगामी माह में किसी भी दशा में प्रगति कम नहीं होनी चाहिए। डीएम ने डीपीआरओ एव ंबीएसए को निर्देश दिया कि समस्त स्कूलों एवं ऑगनबाड़ी केन्द्रों पर बेबी फ्रेन्डली ट्ायलेट की आवश्यक मरम्मत कराना सुनिश्चित करें। डीपीओं को निर्देश दिया गया कि समस्त आंगनबाडी केन्द्रों पर बेबी फ्रेन्डली टायलेट एवं केन्द्र भवनों का स्थलीय निरीक्षण कर लें।

ई-कवच ऐप के सम्बन्ध में सीएमओ/डीपीओ को निर्देश दिया गया कि सैम बच्चों का शत्-प्रतिशत पंजीकरण स्वास्थ्य विभाग के सहयोग से ई-कवच ऐप पर करायें। ब्लाक शिवपुर, महसी, नवाबगंज, बलहा, चित्तौरा एवं तेजवापुर की खराब फीडिंग की स्थिति पर अत्यन्त रोष व्यक्त करते हुए डीएम ने सचेत किया कि आगामी माह में अपनी फीडिंग स्वास्थ्य विभाग के सहयोग से शत्-प्रतिशत पंजीकरण पूर्ण कराना सुनिश्चित करें। डीएम ने निर्देश दिया कि माह अक्टूबर 2021 से प्रारम्भ होने वाले एच.बी.वाई.सी. कार्यक्रम को सफल बनाने में सभी ऑगनबाड़ी कार्यकत्री अपेक्षित सहयोग प्रदान करें।