द मीडिएटर ने मनाया अपने सह संस्थापक का स्मृति दिवस, वितरण किया मिष्ठान एवं फल

युग जागरण न्यूज़ नेटवर्क  

आजमगढ़। द मीडिएटर इन्फोमीडिया ए.बी.सी.डी. एवं एम.बी.सी.डी. की प्रकाशन संस्था  द मीडिएटर द्वारा अपने सामाजिक सरोकार के तहत प्रत्येक वर्ष की भांति इस वर्ष भी "तेरा तुझको अर्पण" कार्यक्रम के तहत बुधवार 15 सितंबर 2021 को जरूरतमंदों में फल एवं मिष्ठान आदि का वितरण कर संस्था की को-फाउंडर विभाश्री की पुण्यतिथि मनाई गई l कार्यक्रम की शुरुआत संस्था के लोगों द्वारा विभाश्री  के चित्र पर पुष्प अर्पित कर आजमगढ़ स्थित बड़ा गणेश मंदिर में उपस्थित भिखारियों एवं जरूरतमंदों में फल एवं मिष्ठान आदि का वितरण करते हुए संस्था के संस्थापक प्रबंधक संजय राही ने बताया कि संस्था द्वारा अपने सामाजिक सरोकार का निर्वहन प्रत्येक वर्ष निर्धारित तिथि पर किया जाता है वर्ष 2015 से संस्था द्वारा अपने संस्थापक विभाश्री की पुण्यतिथि पर प्रत्येक वर्ष निर्धारित तिथि पर जरूरतमंदों में भोजन फल एवं मिष्ठान आदि का वितरण किया जाता है | अक्षय तृतीया पर वस्त्र दान, वृद्ध आश्रम में भोजन आदि के साथ, 5 जून विश्व पर्यावरण दिवस पर वृक्षारोपण के साथ अपने सामाजिक सरोकारों को अंजाम दिया जाता है | द मीडिएटर इन्फोमीडिया के उप प्रबंधक जगदंबा उपाध्याय ने बताया कि संस्था प्रत्येक वर्ष निर्धारित तिथि पर कार्यक्रम का आयोजन कर जरूरतमंदो में  उनकी आवश्यकताओ की पूर्ति करने का प्रयास किया जाता है | संस्था के उमेश चंद्र पाठक ने बताया कि हमें अपने आसपास एक-दूसरे की जरूरतों को महसूस करना होगा उसे पूरा करने का प्रयास करना होगा | संस्था के अजय श्रीवास्तव ने इस मौके पर सभी आवश्यकताओं की पूर्ति के लिए अपना विशेष योगदान दिया | अंत मे संस्था के संस्थापक/प्रबंधक/प्रबंध संपादक संजय राही  ने वितरण में आए सभी आगंतुकों को इस संकल्प के साथ धन्यवाद दिया गया कि वह प्रत्येक वर्ष एक निर्धारित तिथि पर अपने आसपास जरूरतमंदों की सेवा करने से ना चुके | संस्था द्वारा किए जा रहे सामाजिक, साहित्यिक, सांस्कृतिक कार्यक्रमों के माध्यम से एक  प्रकार का सामाजिक योगदान देना होता है | इस अवसर पर संस्था के संजय राही, जगदंबा उपाध्याय, अजय श्रीवास्तव, उमेशचंद पाठक, दिनेश चंद श्रीवास्तव, नरसिंह यादव, त्रियम्बक श्रीवास्तव, निकेश प्रजापति इत्यादि के साथ मंदिर के महंत राजेश  मिश्रा सहित समस्त श्रद्धालु तथा मीडिया बंधु उपस्तिथत रहे |