टूटा तारा

युग जागरण न्यूज़ नेटवर्क 


आसमान से टूटा जो तारा

ज़िन्दगी का एहसास करा गया

आंखों में आंसू आ गए

फिर बिछड़ा कोई याद आ गया


न जाने कहाँ हो गया गुम

जो था कभी आस पास

तन्हा छोड़ गया हम सबको

जिसने किया सबको उदास


टूटे तारे भी कभी रौशनी से

थे आसमान में टिमटिमाते 

टूटे जो एक बार

तो फिर कभी जुड़ नहीं पाते


अपनी न सही उनकी चाँद की

रोशनी से ही टिमटिमाते थे

सौर मण्डल के लिये थे सब कुछ

अपनी पूरी ताकत से जगमगाते थे


एक छोटे से तारे की एहमियत

किसी ने नहीं जानी

सख्शियत उसकी रह गई

अनकही अनजानी


जिंदगी हमारी भी इक तारे की मानिंद है

न जाने कब नीचे आएगी

भरी रह जायेगी यह पाप की टोकरी यहीं

अच्छाई जो की है वही साथ जाएगी


रवींद्र कुमार शर्मा

घुमारवीं

जिला बिलासपुर हि प्र


Popular posts
मुझ पर दोस्तों का प्यार, यूँ ही उधार रहने दो |
Image
चिट्टियां कैसे लिखी जाती थी
Image
राज्य विधिक सेवा प्राधिकरण के तत्वाधान में व प्रभारी जिला जज/ अध्यक्ष विधिक सेवा प्राधिकरण के मार्गदर्शन में आजादी अमृत महोत्सव हुआ कार्यक्रम
Image
70 साल की उम्र में UP विधानसभा के पूर्व अध्यक्ष सुखदेव राजभर ने ली अंतिम सांस, मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ, अखिलेश यादव ने जताया शोक
Image
असंगठित क्षेत्र के श्रमिकों को सामाजिक सुरक्षा, रोज़गार और कल्याणकारी योज़नाओं का लाभ उठाने ई-श्रमिक पोर्टल पर पंजीकरण मील का पत्थर साबित होगा
Image