सबसे बड़ी लूट के खुलासे में मोबाइल नहीं सीसटीवी कैमरे बने ’पुलिस के सारथी’

युग जागरण न्यूज़ नेटवर्क

-सीसीटीवी कैमरों की रिकार्डिंग को खंगालते हुए नौहझील तक जा पहुची थी पुलिस

-लूट के करीब दो घंटे बाद बाजना में लुटेरों ने की थी चार जिम बैग की खरीद

-यहीं पुलिस का शक हो गया पुख्ता, इसी क्षेत्र में या आसपास ही हैं उनके शिकार

मथुरा। तमाम सनसनी खेज वारदातों का खुलासा पुलिस सर्विलांस टीम की मदद से करती रही है। जनपद में अब तक की सबसे बडी लूट को अंजाम देने वाले बदमाश बेहद शातिर थे। उन्होंने वारदात को अंजाम देने के दौरान पूरी घटना मंे मोबाइल फोन का प्रयोग ही नहीं किया। पुलिस के सामने अब नई चुनौती थी। पुलिस के पास अब इतनी बडी वारदात के खुलासे के लिए जगह जगह लगे सीसीटीवी कैमरा ही सहारा रह गए थे।  

इस सनसनीखेज लूट की घटना के खुलासे के लिए पुलिस अधीक्षक नगर, पुलिस अधीक्षक ग्रामीण एवं पुलिस अधीक्षक अपराध, क्षेत्राधिकारी नगर व क्षेत्राधिकारी रिफाइनरी के नेतृत्व में स्वाट टीम, एसओजी टीम, सर्विलांस टीम, प्रभारी निरीक्षक कोतवाली, प्रभारी निरीक्षक हाईवे, प्रभारी निरीक्षक वृन्दावन,प्रभारी निरीक्षक नौहझील, प्रभारी निरीक्षक गोविन्दनगर, प्रभारी निरीक्षक सदर बाजार सहित कुल 10 टीमें गठित की गई थीं। गठित टीमों को घटनास्थल के आस-पास के सीसीटीवी फुटेज को चैक कर, लुटेरों के भागने के मार्गों को चिन्हित करने, गूगल मैपिंग करने एवं लुटेरों की पहचान कर उनकी गिरफ्तारी व लूटी गई धनराशि की बरामदगी का दायित्व सौपा गया।

 गठित पुलिस टीमों द्वारा घटनास्थल स्टेट बैंक के पास वाली गली के मोड पर चार व्यक्ति मोटर साइकिलों पर घटना करके सीसीटीवी फुटेज में जाते दिखायी दिये एवं घटना से कुछ समय पूर्व आते हुए भी दिखाई दे रहे थे। मथुरा के शहरी क्षेत्र में लगे सीसीटीवी फुटेज को देखते देखते मुख्य मार्ग एवं लिंक मार्गाें पर लगे सीसीटीवी कैमरों के आधार पर पुलिस टीमें कस्बा बाजना, थाना क्षेत्र नौहझील पहुंची। कस्बा बाजना तक ही दोनों मोटर साइकिल सवार लुटरो के सीसीटीवी फुटेज मिले। पुलिस टीमों द्वारा कस्बा बाजना के अंदर व अन्य मार्गाे पर लगे सीसीटीवी कैमरों को देखा गया तो कस्बा बाजना में अंजनी शो-रूम अक्रूर महाराज चौराहे पर लगे सीसीटीवी कैमरे में दो व्यक्ति जो मोटर साइकिल पर सवार थे, खरीददारी करते हुए दिखायी दिये। दुकान पर लगे सीसीटीवी फुटेज के आधार पर दुकान स्वामी से जानकारी की गयी तो दुकान के स्वामी ने दूसरी दुकान से दोनों लड़को द्वारा 4 जिम बैंग खरीदने की बात बतायी। इससे पुलिस टीमों को यह विश्वास हुआ कि घटना कारित करने वालों का संबंध कस्बा बाजना या उसके आस-पास के क्षेत्र से है, जिसके आधार पर पुलिस टीमें लुटेरो की पहिचान करने एवं उनके संबंध में सूचना संकलित करने के लिए कस्बा बाजना और आस पास के क्षेत्र में गोपनीय रूप से सक्रिय हुई। पुलिस टीमों द्वारा संकलित गोपनीय सूचनाएं एवं विश्वसनीय सूत्रों के आधार पर तीन लुटेरों की पहचान हुई। मुखबिर की सूचना पर एंव उक्त जानकारियों के आधार पर पुलिस टीमों द्वारा लगातार इन अपराधियों की धर पकड का अभियान चलाया जा रहा था जिसके फलस्वरूप देर रात्रि में थाना नौहझील क्षेत्रान्तर्गत तीनों लुटेरों की गिरफ्तारी कर ली गई। अभियुक्त नीतेश से बैग में रखे पांच लाख 40 हजार रूपये व एक तमंचा 315 बोर व चार जिन्दा कारतूस बरामद हुए। अभियुक्त जीतू से बैग में रखे 14 लाख 46 हजार रूपये व एक तमंचा 315 बोर व चार कारतूस बरामद हुए एवं अभियुक्त तरूण से एक बैग में रखे 14 लाख 50 हजार रूपये व एक तमंचा 315 बोर व चार कारतूस बरामद हुए। गिरफ्तार नीतेश, तरूण चौधरी तथा जीतू उर्फ जितेन्द्र ग्राम भवोकरा, थाना जेबर जिला गौतमबुद्ध नगर के हैं जबकि अरविन्द उर्फ माया बिनोबा नगर, थाना सादाबाद जिला हाथरस का रहने वाला है।