चाणक्य नीति: बच्चों की इन आदतों पर हर माता-पिता का होना चाहिए ध्यान

युग जागरण न्यूज़ नेटवर्क 

आचार्य चाणक्य की गिनती महान शिक्षाविद, अर्थशास्त्री और कूटनीतिज्ञ में की जाती है। चाणक्य को जीवन के हर पहलू का गहराई से ज्ञान था। यही कारण है कि आज भी उनकी नीतियां प्रासंगिक हैं। लोग उनकी लिखी बातों को अपनाकर अपने जीवन में सफलता पाते हैं। वैवाहिक जीवन, आर्थिक स्थिति, नौकरी, व्यापार आदि के अलावा आचार्य चाणक्य ने बच्चों से जुड़ी भी नीतियां बताई हैं। एक नीति में उन्होंने बताया है कि बच्चों की किन आदतों पर हर माता-पिता का ध्यान होना चाहिए-

1. बच्चों का शैतानियां करना आम बात है। लेकिन कई बच्चे जिद्दी होते हैं। इस स्वभाव के बच्चे अपने माता-पिता की बात नहीं सुनते हैं। अक्सर माता-पिता बच्चों की इस आदत को नजरअंदाज कर देते हैं। चाणक्य कहते हैं कि ऐसे हालात में माता-पिता को बच्चे से प्यार से समझाना चाहिए।

2. चाणक्य कहते हैं कि कई बार बचपन में बच्चे झूठ बोलने लगते हैं। हर माता-पिता को अपने बच्चे की इस आदत को जल्द से जल्द छुड़वाना चाहिए। बच्चों को बताना चाहिए कि झूठ बोलना गलत है। वरना आगे जाकर बच्चे के झूठ से कई बड़ी परेशानियां खड़ी हो सकती हैं।

3. चाणक्य का मानना है कि बच्चों को बचपन से ही महापुरुषों की कहानियां सुनानी चाहिए। अच्छे कार्यों के लिए प्रेरित करना चाहिए। ताकि वह हमेशा अच्छे कार्यों के लिए प्रेरित होते रहें।

4. नीति शास्त्र के अनुसार, बच्चों को कभी धमकाकर या डांटकर नहीं समझाना चाहिए। ऐसा करने से वह जिद्दी होते जाते हैं। चाणक्य कहते हैं कि बच्चे प्यार की भाषा जल्दी समझते हैं।