ख्वाबों का जहां

युग जागरण न्यूज़ नेटवर्क


इस जहां से परे

न जाने कितने जहां बसते हैं,

हर शख्स यहां

अपने ख्वाबों का जहां लिए फिरता है।


घटती नहीं हैं चीजें जब

इस जहां में उसके हिसाब से

तो 'ख्वाब-जहां' में अपनी

दमित इच्छाओं का बहाव लिए फिरता है।


मिले चाहे न मिले उसे

यहां अपने मन का कुछ भी

लेकिन 'ख्वाब-जहां' में अपने

कल्पवृक्ष खुद के हजार लिए फिरता है।


मुश्किलें मिलती हैं अक्सर

बहुतायत में यहां हर किसी को

इसलिए 'ख्वाब-जहां' में अपनी

सब मुश्किलों का निदान लिए फिरता है।


अपनी नजरों में है हर इंसान

दुनिया का सबसे महत्वपूर्ण इंसान,

'ख्वाब-जहां' में अपनी

वो इसी बात की तस्दीक किए फिरता है।


जितेन्द्र 'कबीर'

जिला चम्बा हिमाचल प्रदेश