॥ तेरा संग हो ॥

 

युग जागरण न्यूज़ नेटवर्क


बस इतना ही संग हो तुम्हारा हमारा

हर मोड़ पे साथ देना जीवन जब तक है हमारा


सूरज बदले तारे बदले बदल जाये सारा जमाना

प्रकृति बदले नीयत बदले तुँ फिर भी ना बदल जाना


तेरे बाँहों में ही होगी सुबह शाम हमारा

साथ जीयेगें साथ मरेगें वादा है हमारा


राम और श्याम की धरती ये धरती है सारा

दुनियॉ रूठे तुँ ना रूठे आस है तुमपे हमारा


तेरे हाथ में मेरा हाथ हो फ़िर क्या करेगा जमाना

इक दूजे में खो जायें हम ये सपना है बनाना


उदय किशोर साह

मो० पो० जयपुर जिला बांका बिहार